मंडी टैक्स को लेकर लोहियानगर मंडी व्यापारियों का तीसरे दिन भी धरना प्रदर्शन जारी

Smart News Team, Last updated: 23/09/2020 02:29 PM IST
  • व्यापारियों ने ऐलान किया है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं की जाती तब तक मंडी को बंद रखा जाएगा.उद्योग व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष विष्णु दत्त पाराशर कहा है कि मंडी शुल्क को समाप्त करने की मांग को लेकर आंदोलन और तेज करना पड़ा तो कदम पीछे नहीं हटेगें.
लोहियानगर मंडी में प्रदर्शन करते व्यापारी

मेरठ. मंडी शुल्क को पूरी तरह समाप्त किए जाने की मांग को लेकर व्यापारियों का आंदोलन तेज हो गया है . लगातार तीसरे दिन लोहियानगर मंडी मे व्यापारियों ने जुलूस निकाला और मुख्य गेट पर प्रदर्शन कर धरना दिया. व्यापारियों ने ऐलान किया है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं की जाती तब तक मंडी को बंद रखा जाएगा. दूसरी ओर, दिल्ली रोड नवीन मंडी के व्यापारी कल मुख्य गेट पर काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन किया. इस दौरान व्यापारियों ने मंडी समिति सचिव को ज्ञापन सौंपा. 

बुधवार को व्यापारियों ने लोहियानगर अतिरिक्त फल एवं सब्जी मंडी में अध्यक्ष राजकुमार सोनकर कहा कि हमारी मांग है कि मंडी शुल्क को पूरी तरह से समाप्त किया जाए. यदि हमारी मांगे जल्द ही पूरी नहीं होगी तो वह मंडी को बंद कर देंगे और अन्य मंडियां भी बंद भी कराएंगे. इस दौरान महामंत्री ब्रहमपाल, कोषाध्यक्ष अशरफ कुरैशी, अमरीश गुप्ता मोनू, अशोक और सौरभ सिंह भी प्रदर्शन में मौजुद. दिल्ली रोड नवीन पर मंडी के व्यापारियों ने भी विरोध प्रदर्शन किया. दिल्ली रोड नवीन गल्ला मंडी अध्यक्ष मनोज गुप्ता, गिरीश अग्रवाल, सब्जी मंडी उपाध्यक्ष सरफराज अंसारी, अध्यक्ष अशोक सोनकर, फल मंडी अध्यक्ष हाजी इरशाग ने एक ज्ञापन मुख्यमंत्री नाम भेजा.

कोरोना काल में ठप हो गया आइसक्रीम का काम, पांच बच्चों के पिता ने दी जान

उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष विष्णु दत्त पाराशर आंदोलन का नेतृत्व रहे हैं. उम्होंने जानकारी दी है  कि मंडी शुल्क को समाप्त करने की मांग को लेकर आंदोलन और तेज करना पड़ा तो कदम पीछे नहीं हटेगें. सरकार को व्यापारी मंडी शुल्क को समाप्त करने के लिए बाध्य कर देंगे. उनके साथ विपिन गोयल, राजकुमार मदान, विनोद त्यागी, तरुण शर्मा, अतीक अल्वी, राकेश सैनी, कृष्णपाल शर्मा, हाजी मेहराज संजीव भटनागर, निर्वाचन रस्तोगी सुनील कुमार भी आंदोलन में शामिल रहे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें