मेरठ मेडिकल कॉलेज में लापरवाही की हद, बदल गए कोरोना मरीज के शव, जांच हुई शुरू

Smart News Team, Last updated: 06/09/2020 06:21 PM IST
  • मेरठ मेडिकल कॉलेज में एक कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसका शव बदल दिया गया. जब परिजनों ने अंतिम संस्कार के समय अचानक चेहरा देखा तो मामले का खुलासा हुआ. अब मामले में डीएम ने जांच का  आदेश दिया है.
फाइल फोटो

मेरठ. मेरठ के मेडिकल कॉलेज से कोरोना मामले में एक बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है. दरअसल मेरठ मेडिकल कॉलेज में एक कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसका शव ही बदल गया. जब परिजनों ने अंतिम संस्कार के समय अचानक चेहरा देखा तो मामले का खुलासा हुआ. इसके बाद मामले में मेरठ डीएम अनिल ढींगरा ने जांच के आदेश दिया है. जांच के लिए एडीएम सिटी और सीएमओ को मेरठ मेडिकल कॉलेज भेजा गया है. डीएम ने मामले में दोषियों के खिलाफ सख्त कारवाई की बात कही है.

मेरठ में 50 मकानों पर लगा बिकाऊ का पोस्टर, पूरी गली के घर बिकने के लिए तैयार

जानकारी के मुताबिक मेरठ मेडिकल कॉलेज में मोदीनगर निवासी गुरबचन लाल को इलाज के लिए भर्ती कराया गया था. इसी दौरान उनका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया. तब से उनका कोरोना का इलाज चल रहा था. फिर शनिवार को मेरठ मेडिकल कॉलेज में ही इलाज के दौरान मौत हो गई. उसके बाद मेरठ मेडिकल कॉलेज ने परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए शव पैक करके दे दिया.

मेरठ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने नई शिक्षा नीति की प्रतियां जलाई, जमकर किया विरोध

लेकिन रविवार सुबह जब शव का अंतिम संस्कार किया जा रहा था तो परिजन शव का चेहरा देख दंग रहा गए. दरअसल शव गुरु वचन लाल का नहीं था. इस मामले की सूचना फिर मेरठ प्रशासन को दी गई. सूचना पर मेरठ डीएम अनिल ढींगरा ने तुरंत इस मामले में संज्ञान लेते हुए एडीएम सिटी अजय कुमार तिवारी और सीएमओ डॉक्टर राजकुमार जांच टीम गठित कर मेडिकल कॉलेज भेज दिया. डीएम ने कहा कि दोषियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी और आगे से इस प्रकार की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं की जाएगी. इस मामले के सामने आने के बाद से ही मेरठ मेडिकल कॉलेज में हंगामा मच गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें