मेरठ : एक फीसदी मंडी शुल्क का अध्यादेश लागू

Smart News Team, Last updated: 02/12/2020 03:53 PM IST
  • आलू आदि सब्जियों पर एक फीसदी टैक्स और आधा फीसदी विकास शुल्क वसूला जा रहा है. इसी तरह से 48 सब्जियों पर एक फीसदी टैक्स वसूलना शुरू कर दिया. यह आदेश 27 नवंबर से लागू किया है. व्यापारियों ने कहा कि हालांकि आदेश सरकार की घोषणा के साथ ही लागू होना चाहिए.
मेरठ : एक फीसदी मंडी शुल्क का अध्यादेश लागू

मेरठ: 2% (फीसदी) से घटाकर 1% (फीसदी) मंडी शुल्क वसूली उपहार योगी आदित्यनाथ सरकार ने दीवाली के पहले किसानों को दिया था. लेकिन अभी तक ये प्रभावी रूप से लागू नहीं नहीं हुआ था. अब ये आदेश स्थानीय मंडियों में लागू हो गया. इसी के साथ मंडियों में व्यापारियों ने राहत की सांस ली. व्यापारियों का कहना है कि पहले दो फीसदी मंडी शुल्क वसूला जा रहा था. अब नया आदेश लागू होने से राहत मिलेगी. मंडियों से बाहर शिफ्ट होते जा रहे व्यापार पर कुछ फीसदी रोक लगेगी. दिल्ली रोड सब्जी मंडी व्यापारी एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक प्रधान, महामंत्री सरफराज अंसारी और उपाध्यक्ष हाजी समीउद्दीन ने कहा कि कैबिनेट में प्रस्ताव पास कर सरकार ने आदेश कर दिए थे, लेकिन अभी मंडियों में ढाई फीसदी शुल्क वसूला जा रहा है.

उन्होंने कहा कि इसका व्यापार पर असर पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि 60 फीसदी से अधिक व्यापार मंडियों से बाहर शिफ्ट हो गया. फल मंडी अध्यक्ष हाजी इरशाद ने भी कहा कि मंडियों में व्यापार खत्म होता जा रहा है. मंडी समिति सचिव नरेंद्र मलिक ने बताया कि 27 नवंबर को आदेश जारी हो गया था. इसके मुताबिक आलू आदि सब्जियों पर एक फीसदी टैक्स और आधा फीसदी विकास शुल्क वसूला जा रहा है.

मेरठ में कार की ट्रक से हुई भिडंत, भात देकर लौट रहे शख्स की मौके पर मौत, दो घायल

इसी तरह से 48 सब्जियों पर एक फीसदी टैक्स वसूलना शुरू कर दिया. यह आदेश 27 नवंबर से लागू किया है. व्यापारियों ने कहा कि हालांकि आदेश सरकार की घोषणा के साथ ही लागू होना चाहिए. इस पर सचिव ने कहा कि सरकार ने शासनादेश 27 नवंबर को जारी और लागू किया. इसी के साथ आदेश का पालन सुनिश्चित करा रहे है. दिल्ली रोड सब्जी मंडी व्यापारी एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक प्रधान, महामंत्री सरफराज अंसारी और उपाध्यक्ष हाजी समीउद्दीन,फल मंडी अध्यक्ष हाजी इरशाद ने सरकार और मंडी प्रशासन का आभार जताया.

AAP ने बनाई प्रदेशव्यापी आंदोलन की रणनीति, स्मार्ट मीटरों को हटाने की मांग उठाई

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें