मेरठ पुलिस ने वोल्वो बस में 5 करोड़ रुपए की चरस पकड़ी, चार आरोपी अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 11:27 PM IST
मेरठ पुलिस के हाथों बड़ी कामयाबी लगी है. पुलिस टीम ने कंकरखेड़ा थाना प्रभारी के नेतृत्व में ओडिशा से आ रही वोल्वो बस से 5 करोड़ रुपए की चरस को अपनी गिरफ्त में लिया. इसके साथ ही इन अवैध सामग्री को ला रहे 4 तस्करों को भी पकड़ा. 
तस्करों से करोड़ों रुपए की चरस पुलिस ने अपने गिरफ्त में ली. 

मेरठ: जिले के कंकरखेड़ा थाना की पुलिस ने वोल्वो बस में चार तस्करों को 5 करोड़ रुपए की चरस के साथ गिरफ्तार किया. इस बरामद हुई चरस का वजन करीब तीन कुंतल यानी 70 किलो बताया गया. पुलिस ने यह कार्य थाना प्रभारी तपेश्वर सागर के नेतृत्व में किया. इतनी बड़ी मात्रा में अवैध सामग्री के पकड़े जाने पर शहर एसएसपी अजय साहनी ने पुलिस टीम को 20 हजार रुपए देने की तत्काल रुप से घोषणा की.

मेरठ की कंकरखेड़ा पुलिस को यह जानकारी मिली थी कि जटोली कट के पास पड़ने वाले हाईवे से एक वोल्वो गुजरेगी. जिसमें तस्करी की चरस ओडिशा से शहर में लाई जा रही है. जिसका वजन 70 किलोग्राम है और अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत करीब 5 करोड़ रुपए बताई गई थी. साथ ही बस का नंबर यूपी 14 जीटी 0049 भी पुलिस को लीक कर दिया गया था. मिली सूचना के आधार पर थाना प्रभारी निरीक्षक कंकरखेड़ा तपेश्वर सागर के नेतृत्व में पुलिस टीम गठित की गई थी. जब मौके पर थाना प्रभारी अपनी टीम के साथ पहुंचे तो उन्होंने चारों आरोपियों को रंगे हाथों पकड़ लिया.

मेरठ: दहेज में बुलेट नहीं मिलने पर जेठ ने महिला के साथ किया रेप का प्रयास

पुलिस के मुताबिक, इन आरोपियों ने चरस को बस की सीट के नीचे बॉक्स में छिपा कर रखा हुआ था. गिरफ्तार किए गए आरोपियों में मेरठ के फलावदा का निवासी अर्जुन सैनी, गंगानगर के रजपुरा का रहने वाले विनय चौधरी, बुलंदशहर स्थित कोतवाली देहात निवासी अंकित गुर्जर और अमरोहा के मरोरा का नरेश रघुवंशी हैं. इसके साथ ही पुलिस ने वोल्वो बस मालिक का नाम सुनील कुमार बताया, जो गाजियाबाद बम्हैटा के शाहपुरा का रहने वाला है. सुनील इस बस को ओडिशा से मेरठ तक चलवाता है और कभी-कभार इसका प्रयोग मादक पदार्थों के आवागमन के लिए करवाता है.

मेरठ: गाड़ी की साइड लगने पर घर में घुसकर किया हमला, दंपत्ति को डंडों से पीटा

यूपी को-ऑपरेटिव बैंक के ग्राहकों को जल्द घर बैठे मिलेगी नेट बैंकिंग की सुविधा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें