गाड़ी कटान का धंधा बंद, बिजनेस जमाने को सोतीगंज के कबाड़ियों को लोन दिला रही मेरठ पुलिस

Somya Sri, Last updated: Thu, 30th Dec 2021, 11:51 AM IST
  • मेरठ पुलिस सोतीगंज स्थित कबाड़ियों को नया व्यवसाय शुरू करने के लिए लोन उपलब्ध कराएगी. अब सोतीगंज के कबाड़ियों व वाहन चोरों को चोरी से जुड़ा सभी काम छोड़ना होगा. वहीं मेरठ पुलिस द्वारा लोन उपलब्ध कराए जाने पर उन्हें नया व्यवसाय शुरू करना होगा.
गाड़ी कटान का धंधा बंद, बिजनेस जमाने को सोतीगंज के कबाड़ियों को लोन दिला रही मेरठ पुलिस (प्रतिकात्मक फोटो)

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में अब मेरठ पुलिस सोतीगंज स्थित कबाड़ियों को नया व्यवसाय शुरू करने के लिए लोन उपलब्ध कराएगी. पुलिस वाहन चोरों और कबाड़ियों को एक बड़ा मौका देने जा रही है. जिसके तहत अब कबाड़ियों को चोरी के वाहन काटकर उसके पुर्जे बेचने की जरूरत नहीं है. पुलिस उन्हें ऐसा मौका दे रही है जिसके जरिए वे अपना अपराध से जुड़े काम छोड़कर दूसरा व्यवसाय कर सकते हैं. दूसरा व्यवसाय शुरू कराने के लिए मेरठ पुलिस लोन मेला का आयोजन करेगी.

मालूम हो कि पुलिस ने कबाड़ियों के दुकान बंद करवा दिए हैं. पुलिस ने उन्हें नोटिस भेज दिया है और दुकान तबतक खोलने को नहीं कहा है जब तक उन्हें दस्तावेज नहीं मिल जाते. वहीं वाहन चोरों और कबाड़ियों ने मेरठ पुलिस को एक शपथ पत्र भी सौंपा है. जिसमें उन्होंने अपने धंधा व व्यवसाय को बदलने की बात कही है. साथ ही शपथ पत्र में कबाड़ियों ने कहा है कि वह अब से चोरी से जुड़े काम नहीं करेंगे. जिसके बाद मेरठ पुलिस ने शपथ पत्र पर एक्शन लेते हुए कबाड़ियों को लोन दिलाएगी. इसके लिए पुलिस ने बैंक अधिकारियों और प्रशासनिक टीम से इस मामले में बातचीत भी कर ली है. वहीं मेरठ पुलिस कबाड़ियों को नया व्यवसाय शुरू कराने के लिए थाना परिसर में ही लोन उपलब्ध करवाएगी.

महिला के साथ परिचित ने किया रेप, विरोध करने पर दी जान से मारने की धमकी, केस दर्ज

वही इस संबंध में पुलिस का कहना है कि जिन कंपनियों में कारीगरों की जरूरत होगी वहां इन्हें भर्ती कराई जाएगी. साथ ही इन्हें प्रशिक्षण भी दिया जाएगा. पुलिस का कहना है कि कबाड़ियों का सेवायोजन कार्यालय में पंजीकरण भी कराया जाएगा. वहीं जानकारी के मुताबिक पुलिस ने लोन उपलब्ध कराने के लिए 6 बैंक अधिकारियों से बात की है. मेरठ पुलिस का कहना है कि मुद्रा कंपनी और फाइनेंस कंपनी के जरिए भी लोन उपलब्ध कराने की पहल रहेगी. मेरठ पुलिस ने बताया कि यह सब का मकसद है कि कबाड़ियों को प्रशिक्षण दिया जा सके और लोन दिलवा कर नया व्यवसाय शुरू कराया जा सके. उन्होंने कहा कि इन कारीगरों को योग्यता के आधार पर फैक्टरियों और कंपनियों में रोजगार मिलेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें