मेरठ: स्कूलों की फीस को लेकर मनमानी के खिलाफ सड़कों पर उतरेगा संत समाज

Smart News Team, Last updated: 26/08/2020 09:06 AM IST
  • मेरठ में स्कूलों की फीस मांग को लेकर हो रही मनमानी के खिलाफ संत समाज सड़कों पर उतरेगा. उन्होंने ऐलान किया है कि स्कूलों के खिलाफ वो सड़कों पर आएंगे. कई दिनों से इसके खिलाफ अभिभावकों का विरोध प्रदर्शन चल रहा है.
मेरठ: स्कूलों की फीस को लेकर मनमानी के खिलाफ सड़कों पर उतरेगा संत समाज

मेरठ. मेरठ में स्कूलों की फीस मांग के खिलाफ अभिभावक लंबे समय से विरोध कर रहे हैं. अब अभिभावकों का साथ देने के लिए संत समाज स्कूलों की मनमानी के विरोध में उतर आया है. मंगलवार को ठठेरवाड़ा स्थित सिद्ध पीठ श्री पंचमुखी महादेव मंदिर पर संतो ने सभा की. उन्होंने चर्चा की कि कोरोना काल में स्कूल फीस वसूल रहे हैं जिसका वो विरोध करेंगे. उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण काल चल रहा है ऐसे में स्कूलों की मनमानी उफान पर है. लोगों के काम धंधे छूट रहे हैं और स्कूल पूरी फीस मांग रहे हैं. सरकार को इस पर अंकुश लगाना चाहिए.

कृष्ण स्वरूपानंद महाराज ने कहा कि असंवैधानिक तरीके से स्कूल मोटी फीस वसूल रहे हैं. उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थाओं की वित्तीय जांच की जानी चाहिए. कोरोना काल में बच्चों से पूरी फीस ना ली जाए. सरकार इसे रोके. इसके विरोध में संत समाज भी सड़कों पर उतरेगा और अभिभावकों का समर्थन करेगा.

मेरठ: बर्थडे की खुशी में कर रहे थे फायरिंग, पुलिस आई तो बाइक तक छोड़ भाग गए युवक

महामंडलेश्वर गुरु मां नीलिमा नंद महाराज ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि काम धंधे चौपट हैं, बाजार बंद हो गए. ऐसे में कोरोना के दौरान की पूरी फीस स्कूल ले रहे हैं, जबकि सरकार चुप बैठी हुई है. बच्चे स्कूलों की इस लूट खसोट को देखेंगे तो उनके मन में आपराधिक प्रवृत्ति बढ़ेगी. सरकार को स्कूलों की मनमानी पर अंकुश लगाना चाहिए.

मेरठ में BJP नेता की नकली NCERT किताब फैक्ट्री पर कांग्रेस, RLD की राजनीति सुलगी

इंद्रप्रस्थ प्रदेश संघर्ष मोर्चा की 'नो स्कूल, नो फीस' की मुहिम का समर्थन करते हुए संत समाज ने कहा कि सरकार को स्कूलों के मनमानी पर अंकुश लगाना चाहिए. ऐसा नहीं हुआ तो अभिभावकों की जिम्मेदारी लेते हुए संत समाज सड़कों पर उतरेगा. मोर्चा के अध्यक्ष अशोक सिवाच ने कहा कि स्कूल संचालकों की आय की जांच कर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें