मेरठ: NCERT की 35 करोड़ की डुप्लीकेट किताबें जब्त, प्रेस में लगाई आग, 12 अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 21/08/2020 09:59 PM IST
  • मेरठ में एसटीएफ और पुलिस ने मिलकर एक गोदाम में छापेमारी की है. जहां 35 करोड़ की डुप्लीकेट एनसीआरटी किताबें बरामद की गई हैं. पुलिस की छापेमारी की सूचना मिलने पर आरोपियों ने प्रेस में आगजनी करने का प्रयास किया.
मेरठ में पुलिस ने 35 करोड़ की डुप्लीकेट किताबें बरामद की.

मेरठ में एनसीआरटी के डुप्लीकेट किताबें छापने का मामला सामने आया है. यूपी एसटीएफ और मेरठ पुलिस ने मिलकर 35 करोड़ की किताबें पकड़ी हैं. वहीं पुलिस को छह प्रिंटिंग मशीने मिली हैं.

एसटीएफ मेरठ यूनिट के डीएसपी ब्रजेश कुमार ने शुक्रवार को एक गोदाम में छापा मारा जहां से दर्जन भर लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इसी के साथ बड़ी संख्या में किताबें बरामद हुई हैं जिनपर एनसीआरटी का नाम और लोगो छपा हुआ है. 

पुलिस के पहुंचने पर मजदूरों ने बताया कि किताबों की छपाई दिल्ली रोड पर मोहकमपुर एन्कलेव में होती है. पुलिस की रेड की सूचना मिलने पर कुछ लोग आए और प्रिंटिंग प्रेस में सबूत मिटाने की कोशिश करने लगे. पुलिस के पहुंचने से पहले ही आरोपी भाग निकले. आग को बुझाकर पुलिस ने बहुत बड़ी संख्या में किताबें बरामद की हैं. 

लॉकडाउन में बेरोजगारों से नौकरी के नाम पर ठगी, फर्जी कंपनी का मैनेजर अरेस्ट

एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि एनसीआरटी की डुप्लीकेट किताबें उत्तर प्रदेश समेत उत्तराखंड और दिल्ली में सप्लाई हो रही थी. गोदाम और प्रिटिंग प्रेस को सील कर दिया गया है. वहीं छह प्रिंटिंग प्रेस बरामद की गई हैं. मौके पर पुलिस ने दर्जन भर से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया है और उनसे पूछताछ कर रही है. 

सपा छात्र सभा ने किया क्लेक्ट्रेट पर प्रदर्शन, मांगों को लेकर आंदोलन की धमकी

पुलिस ने बताया कि एनसीआरटी की किताबें फुटकर विक्रेताओं को 15 प्रतिशत की कमीशन पर मिलती हैं. इनकी छपाई का केंद्र दिल्ली के अलावा कहीं भी नहीं है. वहीं डुप्लीकेट किताबों पर विक्रेताओं को 30 प्रतिशत का कमीशन मिलता है. इसी कारण डुप्लीकेट किताबों का धंधा अपने चरम पर है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें