मेरठ STF ने किया दिल्ली पुलिस की परीक्षा में नकल कराने वाले रैकेट का भंडाफोड

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 12:17 AM IST
  • मेरठ एसटीएफ के हाथ हाल ही में बड़ी कामयाबी लगी है. दरअसल, एसटीएफ यूनिट ने एक नकल माफिया रैकेट का भंडाफोड़ किया. सहारनपुर निवासी अंकुर अपने साथियों के साथ हरिद्वार कनखल में दिल्ली पुलिस भर्ती की नकल कराते हुए पकड़ा गया था.
यूपी पुलिस में मृतक आश्रित कोटे में भर्ती प्रक्रिया तेज, चालक परीक्षा 2 नवंबर को

मेरठ. मेरठ एसटीएफ के हाथ हाल ही में बड़ी कामयाबी लगी है. दरअसल, एसटीएफ यूनिट ने एक नकल माफिया रैकेट का भंडाफोड़ किया. सहारनपुर निवासी अंकुर अपने साथियों के साथ हरिद्वार कनखल में दिल्ली पुलिस भर्ती की नकल कराते हुए पकड़ा गया था. उसके पास से पुलिस ने कई दर्जन एडमिट कार्ड, लैपटॉप, राउटर आदि बरामद किए गए हैं. अंकुर और उसके चार साथी हर परीक्षार्थी से 20-20 हजार रुपये लेकर दिल्ली पुलिस भर्ती की परीक्षा में नकल कराते थे.

यह गिरोह परीक्षा कराने वाली कंपनी टीसीएस (टाटा कन्सलटेंसी सर्विसेज) में भी हैकिंग का प्रयास करते थे. मेरठ एसटीएफ ने अंकुर के साथ 4 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिन्हें 15 दिसंबर को हरिद्वार कोर्ट में पेश किया जाएगा. जानकारी के मुताबिक, अंकुर हरिद्वार के कनखल में एक सेंटर चलाता है. इसमें टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज के माध्यम से दिल्ली पुलिस एग्जाम के भी पेपर होते हैं. अंकुर एक कैंडिडेट से बीस हज़ार रुपये लेता था और अपने सेंटर में उसे नकल कराता था.

मेरठ में दिखा सर्दी का असर, एक्यूआई भी रहा सामान्य से ऊपर

इस मामले में एसटीएफ के सीओ बृजेश सिंह ने बताया कि अंकुर और उसके साथियों ने यह रैकेट चला रखा था और वे कई बार टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज की परीक्षाओं में हैकिंग की कोशिश कर चुके हैं. टीसीएस अपने प्रोग्राम को हर बार बदल देती है जिसकी वजह से अंकुर और उसके साथी हैकिंग में कामयाब नहीं हो रहे थे. वहीं, फिलहाल इन पांचों को गिरफ्तार कर लिया गया है और पूछताछ जारी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें