मेरठ: गन्ना किसानों को SMS से मिलेगी डिजिटल पर्ची, 4 करोड़ रुपये की होगी बचत

Smart News Team, Last updated: 01/09/2020 11:16 AM IST
  • वेस्ट यूपी के गन्ना किसानों के मोबाइल पर SMS के माध्यम से अब पर्ची पहुंचेगी. इस व्यवस्था से पर्ची की छपाई पर खर्च होने वाला करीब 4 करोड़ रुपये बचेगा. करीब 40 टन कागज की बचत भी होगी. 
अब गन्ना किसानों के मोबाइल पर SMS के माध्यम से पर्ची पहुंचेगी.

मेरठ. वेस्ट यूपी के गन्ना किसानों के मोबाइल पर SMS के माध्यम से अब पर्ची पहुंचेगी. जानकारी के अनुसार इस व्यवस्था से करीब 40 टन कागज की बचत होने का अनुमान है. इसके अलावा पर्ची की छपाई पर खर्च होने वाला करीब चार करोड़ रुपये भी बचेगा.

मेरठ मंडल और सहारनपुर मंडल की मिलों में 37 लाख 58 हजार गन्ना किसानों के मोबाइल नंबर पर पहली बार मैसज के माध्यम से पर्चियां भेजी जा रही है. इस व्यवस्था को लागू करने के लिए गन्ना विभाग ने ईआरपी सिस्टम से सभी तैयारियां पूरी ली है. 

MDA में डिप्टी कलेक्टर, वित्त अधिकारी कोरोना पॉजिटिव, मेरठ प्राधिकरण 2 दिन बंद

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सभी गन्ना किसानों के मोबाइल नंबरों को ऑनलाइन पोर्टल से कनेक्ट किया जा चुका है. मोबाइल पर आए पर्ची का मैसेज दिखाकर गन्ना किसान तौल करा सकेंगे. बताया जा रहा है कि यह व्यवस्था हो जाने से मैनुअल पर्ची में इस्तेमाल होने वाले करीब 40 मीट्रिक टन कागज को बचाया जा सकेगा. 

मेरठ: किसान अधिकार यात्रा में गिरफ्तार कांग्रेस नेता रोहित गुर्जर जमानत पर रिहा

इस नई व्यवस्था के आ जाने से लगभग पर्ची की छपाई में होना वाला करीब 4 करोड़ रुपये से अधिक का बजट बच जाएगा. विभाग ने बताया कि इस धनराशि से दूसरे कार्य कराए जा सकेंगे. गन्ना किसानों के लिए इस नई व्यवस्था के लागू हो जाने से किसानों को काफी सहूलियत मिलेगी. अब किसानों को पर्ची खोने, फटने की चिंता नहीं रहेगी. डिजिटल पर्ची से किसानों को पहले की तुलना में सहूलियत तो मिलेगा ही, साथ ही उन्हें ई-गन्ना ऐप पर दो दिन पहले पर्ची जारी होने की जानकारी भी मिल सकेगी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें