मेरठ: सफाई कर्मचारियों ने ट्रैफिक पुलिस पर झूठा आरोप लगाकर मचाया बवाल

Smart News Team, Last updated: 03/09/2020 05:35 PM IST
  • सफाई कर्मचारियों ने ट्रफिक पुलिस पर अपने एक साथी को चोट पहुंचाने का आरोप लगाया. जांच में सीसीटीवी फुटेज से सफाई कर्मचारियों का आरोप झूठा साबित हो गया.
हापुड़ अड्डा चौराहा जाम करते सफाई कर्मचारी

मेरठ : शहर में  हापुड़ अड्डा जाम करके ट्रैफिक पुलिस की ओर से अमित नाम के एक सफाई कर्मचारी के साथ मारपीट किए जाने के आरोप में सफाई कर्मचारियों ने हंगामा किया. इसके साथ ही सफाई व्यवस्था को ठप कर दिया. हालांकि बाद में सीसीटीवी कैमरे की रिकार्डिंग में मामला झूठा निकल गया. उसके बाद तो हंगामे के लिए पहुंचे सफाई कर्मचारी नेताओं और सपा नेता की बोलती बंद हो गई. सपा नेता विपिन मनोठिया ने कहा कि यह बहुत गलत हुआ है.

जानकारी के मुताबिक बुधवार की दोपहर में सफाई कर्मचारियों ने ट्रैफिक पुलिस पर एक कर्मचारी की बाइक गिराकर पैर तोड़ने का आरोप लगाकर हंगामा कर दिया. जिसके हापुड़ अड्डा चौराहे पर सफाई कर्मचारियों ने जाम लगा दिया. ट्रैफिक पुलिस पर उतपीड़न के आरोप लगाने लगे. वहीं ट्रैफिक पुलिस, सीओ कोतवाली और अन्य लगातार सफाई कर्मचारी की पिटाई से इंकार करते रहे. बाद में ट्रैफिक पुलिस ने पास की मिठाई की दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे की रिकार्डिंग निकलवाई उसमें साफ दिखाई दे रहा है कि सफाई कर्मचारी अमित स्कूटी से मिठाई दुकान पर आया,बाहर निकला,फिर अंदर जाने लगा कि फिसल गया. इस कारण उसके पैर में चोट आई. ट्रैफिक पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को जारी कर दिया तो सफाई कर्मचारी नेताओं और सपा नेताओं की बोलती बंद हो गई, जो तुरंत विरोध करने पहुंच गए थे.

दिल्ली से दोस्त को किया किडनैप, मेरठ में करना था मर्डर, ऐसे आए पुलिस के हाथ

सफाई कर्मचारी नेता कैलाश चंदोला ने तो आरोप लगाया था कि पुलिस लगातार सफाई कर्मचारियों के साथ अभद्रता कर रही है. बुधवार को तो पुलिस ने हद कर दी. सफाई कर्मचारी अमित का पैर तोड़ दिया. उधर, सपा नेता विपिन मनोठिया ने सीसीटीवी फुटेज जारी किये जाने के बाद खेद जताया और कहा कि ऐसा करने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें