मेरठ: सोतीगंज इलाके में कबाड़ियों ने पुलिस के साथ लगा लिए अपने कैमरे, जानें वजह

Smart News Team, Last updated: Mon, 21st Dec 2020, 6:57 PM IST
  • मेरठ के सोतीगंज इलाके में चोरी के वाहनों को काटने से रोकने के लिए पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे लगाए थे. पुलिस ने सोतीगंज में दुकानों के बाहर कैमरे लगाए थे. साथ ही दुकानों में एक रजिस्टर भी रखा था. इसके बाद से कटान में कमी आई थी.
मेरठ के सोतीगंज इलाके में चोरी के वाहनों को काटने से रोकने के लिए पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे लगाए थे.

मेरठ:मेरठ के सोतीगंज इलाके में चोरी के वाहनों को काटने से रोकने के लिए पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे लगाए थे. पुलिस ने सोतीगंज में दुकानों के बाहर कैमरे लगाए थे. साथ ही दुकानों में एक रजिस्टर भी रखा था. इसके बाद से कटान में कमी आई थी. हालांकि, अब पुलिस से बचने के लिए कबाड़ियों ने एक नया तरीका निकाल लिया है. दरअसल, कबाड़ियों ने पुलिस के साथ अपने कैमरे भी लगा लिए. दिन में कैमरों को बंद रखा जाता है और रात में चालू कर दिया जाता है, ताकि रात में पुलिस की दबिश हो तो पहले ही पता चल जाए.

बता दें, सोतीगंज में चोरी के वाहन काटने से रोकने के लिए एसएसपी अजय साहनी ने बाजार में करीब 200 कैमरे लगवाए थे. साथ ही हर दुकान में एक रजिस्टर भी रखवाया था, जिसकी नियमित जांच के आदेश दिए गए थे. कबाड़ियों ने पुलिस को सहयोग करने की बात कही थी, लेकिन इसी बीच उन्होंने जगह-जगह अपने भी कैमरे लगवा लिए. इसके बाद ना तो पुलिस ने अपने कैमरे नियमित रूप से चेक किए और ना ही कबाड़ियों के कैमरे को हटवाया. इसी लापरवाही का फायदा कबाड़ी उठाते हैं. दिन में वह अपने कैमरे तो बंद रखते हैं, लेकिन रात में उनको चालू कर दिया जाता है ताकि कहीं बाहर की पुलिस आए तो उसकी पहले ही जानकारी लग जाए.

मेरठ: मटोरा गांव में दो पक्षों के बीच हुई ताबड़तोड़ फायरिंग, एक युवक को लगी गोली

इस मामले में एसपी सिटी डॉक्टर अखिलेश नारायण ने बताया कि पुलिस द्वारा लगाए गए कैमरों की जांच की जाएगी. साथ ही पुलिस पर नजर रखने के लिए लगाए गए कैमरे को भी हटाया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें