PUVVNL के निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मियों ने MLC सरोजिनी को सौंपा ज्ञापन

Smart News Team, Last updated: Mon, 28th Sep 2020, 12:39 PM IST
  • मेरठ में PUVVNL (पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड) के निजीकरण के फैसले के विरोध में विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के बिजलीकर्मियों ने एमएलसी सरोजिनी अग्रवाल को ज्ञापन सौंंपा.
PUVVNL के निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मियों ने MLC सरोजिनी को सौंपा ज्ञापन.

मेरठ. मेरठ में PUVVNL (पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड) के निजीकरण के फैसले के विरोध में बिजलीकर्मियों ने एमएलसी सरोजिनी अग्रवाल को ज्ञापन सौंपते हुए निजीकरण के फैसले को वापस लेने की मांग की. जिला मुख्यालय पर PUVVNL (पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड) के निजीकरण के फैसले का बिजलीकर्मियों ने विरोध किया.

रोहित कुमार, आर ए कुशवाहा और दिलमणि थपलियाल के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने एमएलसी डॉक्टर सरोज अग्रवाल से मिलकर निजीकरण के विरोध में ज्ञापन सौंपा. मेरठ स्थित ऊर्जा भवन के परिसर में बिजली कर्मचारियों ने पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण के फैसले के खिलाफ बैठक की. इस बैठक में विद्युत परिषद अभियंता संघ, कार्यालय सहायक संघ, बिजली कर्मचारी संघ, विद्युत मजदूर पंचायत, हाईड्रो एम्पलाइज यूनियन, विद्युत कर्मचारी मोर्चा संगठन और जूनियर इंजीनियर संगठन के पदाधिकारी शामिल रहे.  सभी लोगों ने निजीकरण के फैसले के खिलाफ आंदोलन तेज करने की बात कही.

PUVVNL के निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति का धरना

इस दौरान संयोजक रोहित कुमार ने कहा कि निजीकरण का फैसला बिजली कर्मचारी और उपभोक्ता दोनों के ही हित में नहीं है. प्रदर्शन में आरए कुशवाहा, विद्युत मजदूर पंचायत के जिला महामंत्री दिल मनी थपलियाल, विकास वर्मा, विवेक वर्मा, पीसी जोशी, सुरेश कुमार वर्मा, विवेक सक्सेना, संदीप डोगरा, मांगेराम, जतन सिंह भी शामिल रहे. 

वाराणसी के बाद मेरठ में भी बिजलीकर्मियों का प्रदर्शन, सांसद-MLA को सौंपा ज्ञापन

बता दें कि उत्तर-प्रदेश सरकार के प्रस्ताव के मुताबिक पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम को विघटित कर तीन छोटे निगम बनाए जाएंगे. योजना है कि इन तीनों निगमों का निजीकरण किया जाएगा. इसी फैसले के विरोध में बिजली कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं और इसमें सरकार के हस्तक्षेप की मांग कर रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें