मॉडल जिले के रूप में विकसित होगा मेरठ

Smart News Team, Last updated: 14/08/2020 08:01 AM IST
  • जनपद के कार्यों की रैंकिंग के लिए संकेतकों का चयन किया गया. अर्थ एवं सांख्यिकीय विभाग द्वारा रैंकिंग की रिपोर्ट शासन को भेजी गई.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

मेरठ। सरकारी योजनाओं के शत-प्रतिशत क्रियान्वयन किए जाने वाले जिलों की सूची तैयार की जा रही है. इसमें सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओं का लाभ हर पात्रों को दिलाए जाने की प्राथमिकता होगी जिसके आधार पर सभी जिलों के रैंक तय होंगे.

साथ ही विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर एक समिति भी गठित की जाएगी. जो यह देखेगी कि किस जिले में सरकारी योजनाओं का क्रियान्वयन कितने प्रतिशत किया गया है. समिति हर जिले को एक रैंक देगी. इसी रैंक के आधार पर सर्वश्रेष्ठ जिला चुना जाएगा.

मेरठ में योजनाओं के कार्यों की लिस्ट तैयार की जा रही है. इसके आधार पर जनपद की रैंकिंग होगी. अर्थ एवं सांख्यिकीय विभाग द्वारा सभी योजनाओं से संबंधित कार्यों का रिपोर्ट शासन को भेज दिया गया है.

बता दें कि सरकारी योजनाओं के जनपदों में 100 प्रतिशत क्रियान्वयन को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने 18 मंडल मुख्यालयों को सर्वश्रेष्ठ मॉडल जिले के रूप में विकसित करने के निर्देश दिए हैं. शासन की ओर से जनपदों की रैकिंग का निर्धारण करने के लिए एक समिति गठित की गई है. अर्थ एवं संख्या प्रभाग निदेशक को संयोजक बनाया गया है.

योजनाओं के क्रियान्वयन पर रहेगा जोर

मॉडल जिले के रूप में विकसित होने वाले मंडल मुख्यालयों में सरकार द्वारा संचालित महत्वपूर्ण योजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर लागू किया जाएगा. सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का सभी पात्रों को लाभ दिया जाएगा. इसके लिए सबसे आसान एवं सुलभ तरीका ढूंढा जाएगा.

इस बात पर जोर दिया जाएगा कि इन जिलों में कोई भी पात्र लाभार्थी योजना का लाभ पाने से वंचित न रह जाए. आयुष्मान, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री आवास, शौचालय व पेंशन योजनाएं आदि से लोगों को 100 प्रतिशत लाभांवित किया जाना इसका लक्ष्य है.

अर्थ और सांख्यिकी अधिकारी अतुल सक्सेना ने बताया कि मेरठ को मॉडल जिले के रूप में विकसित करने पर विशेष जोर है. सरकारी योजनाओं पर भी जोर रहेगा. फिलहाल, हर विभाग के कामों की रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें