गवर्नर सत्यपाल मलिक बोले- किसानों की मांग नहीं मानी तो ये सरकार दोबारा नहीं आएगी

Nawab Ali, Last updated: Mon, 18th Oct 2021, 4:57 PM IST
  • केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाये गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलनरत हैं. मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि किसानों की मांग नहीं मानी तो ये सरकार दोबारा नहीं आएगी. सरकार किसानों को एमएसपी की गारंटी दे.
राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा किसानों की मांगों को माने सरकार. फाइल फोटो

मेरठ. मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने किसान आंदोलन को लेकर बड़ा बयान दिया है. सत्यपाल मलिक ने कहा है कि किसानों के साथ ज्यादती हो रही है. किसान दस महीने से अपना घर छोड़कर दिल्ली में पड़े हैं. सरकार को किसानों की मांग को लेकर सुनवाई करनी चाहिए. राज्यपाल ने कहा है कि जरुरत पड़ेगी तो राज्यपाल का पद भी छोड़ दूंगा. मैं किसानों के साथ हूं और उनके लिए प्रधानमंत्री और गृह मंत्री सबसे झगड़ा कर चुका हूं. 

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर किसानों के समर्थन में बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि सरकारें जो होती हैं उनका मिजाज थोड़ा आसमान में हो जाता है उन्हें ये दिखता नहीं है कि इनकी तकलीफ कितनी है. लेकिन वक्त आने पर फिर उनको देखना भी पड़ता है और सुनना भी पड़ता है. अगर किसानों की मांगें नहीं मानी गई तो ये सरकार दोबारा नहीं आयेगी. उन्होंने आगे कहा है कि मैं मेरठ से हूं मेरे यहां बीजेपी का कोई नेता किसी गांव में नहीं घुस सकता है. मेरठ, मुजफ्फरनगर और बागपत के गांवों में बीजेपी नेताओं को लोग घुसने नहीं देते हैं. सरकार तब तक नहीं समझेगी जब तक पूरा सत्यानाश न हो जाए.

मेरठ का बागपत रोड रेलवे रोड लिंक मार्ग अब अमर शहीद मार्ग से जाना जाएगा

राज्यपाल सत्य मलिक ने कहा है कि अगर सरकार कहे तो मैं मध्यस्था करने के लिए तैयार हूं. किसान मध्यस्था के लिए तैयार है लेकिन सरकार को भी पहल करनी होगी. अगर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार एमएसपी की गारंटी कर दे तो मसला हल हो जायेगा. सत्यपाल मलिक ने कहा है कि बाकि तीनों कानूनों पर मैं किसानों को मना लूंगा. आपको बता दें कि नरेंद्र मोदी सरकार के तीन कृषि कानूनों की वापसी को लेकर देशभर के किसान सिंघु बॉर्डर पर आंदोलनरत हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें