मेरठ से हूं, मेरे यहां तो BJP नेताओं की किसी गांव में एंट्री नहीं: सत्यपाल मलिक

Smart News Team, Last updated: Mon, 18th Oct 2021, 5:47 PM IST
  • मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने किसान आंदोलन को लेकर कहा कि अगर परेशानी नहीं हल हुई तो नरेंद्र मोदी सरकार वापसी नहीं करेगी. साथ ही उन्होंने कहा कि वे वेस्ट यूपी के मेरठ जिले के निवासी हैं जहां आज के समय में कोई बीजेपी नेता किसी भी गांव में नहीं घुस सकता है.
फोटो- मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

मेरठ. बीजेपी के वरिष्ठ नेता रहे मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने किसान आंदोलन को लेकर ऐसा बयान दिया कि देश में राजनीतिक हलचल मचा दी. सत्यपाल मलिक ने कहा कि प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ ज्यादती हो रही है, अगर उनकी मांगें नहीं सुनी गई तो नरेंद्र मोदी सरकार की वापसी नहीं होगी. साथ ही जम्मू कश्नमीर के पूर्व गर्वनर सत्यपाल मलिक ने कहा कि वे वेस्ट यूपी के मेरठ के रहने वाले हैं जहां हालात ये है कि किसी भी गांव में कोई बीजेपी नेता नहीं घुस सकता है. उन्होंने कहा कि सिर्फ मेरठ ही नहीं, जाट लैंड मुजफ्फरनगर और बागपत के गावों में भाजपा नेताओं की एंट्री नहीं है.

मेघालय गवर्नर ने कहा कि सरकारों का मिजाज अक्सर आसमान में हो जाता है इसलिए उन्हें ये नहीं दिखता कि इनकी (किसानों) कितनी तकलीफ है. लेकिन समय आने पर इन्हें देखना भी पड़ता है और सुनना भी पड़ता है. सत्यपाल मलिक ने कहा कि किसान दस महीनों से अपना घर-परिवार छोड़कर दिल्ली में पड़े हैं और ऐसे में केंद्र सरकार को उनकी सुनवाई करनी चाहिए. अगर सरकार कहे तो मैं मध्यस्था कराने के लिए तैयार हूं. उन्होंने कहा कि किसान तो तैयार हैं लेकिन मध्यस्था के लिए भाजपा सरकार को पहल करनी होगी.

गवर्नर सत्यपाल मलिक बोले- किसानों की मांग नहीं मानी तो ये सरकार दोबारा नहीं आएगी

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि अगर नरेंद्र मोदी सरकार एमएसपी की गारंटी कर दे तो किसानों का मसला हल हो जाएगा. उन्होंने कहा कि बाकी कानूनों पर वे किसानों को मना लेंगे. इसके साथ ही राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो वे अपना भी गर्वनर पद छोड़ने को तैयार हैं. उन्होंने कहा कि वे इस आंदोलन में किसानों के साथ हैं और इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह तक से झगड़ा कर चुके हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें