मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे दिसंबर तक होगा पूरा, जनवरी से फर्राटा भरेंगी गाड़ियां

Smart News Team, Last updated: 06/09/2020 02:31 PM IST
  • मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे को लेकर शनिवार को कमिश्नर की समीक्षा में NHAI के जीएम ने बताया कि यूपी गेट से डासना के बीच दूसरे चरण में 86 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है. वहीं डासना से चौथे चरण में 75 प्रतिशत काम पूरा हो गया है. नितिन गडकरी ने दिसंबर 2020 तक प्रोजेक्ट पूरा करने की बात कही है.
फाइल फोटो

मेरठ. NHAI ने वादा किया है कि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे का काम जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा. जानकारी के मुताबिक दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे प्रोजेक्ट का काम दिसंबर तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. बता दें कि मेरठ से दिल्ली के बीच बेहतर कनेक्टिविटी के लिए लोग इस एक्सप्रेस वे का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. कमिश्नर अनीता सी मेश्राम ने शनिवार को दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे की उच्चस्तरीय समीक्षा की. समीक्षा में कमिश्नर ने NHAI से मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे की प्रगति रिपोर्ट को जाना.

UP का मोस्ट वांटेड आशू जाट मुंबई से गिरफ्तार, एक रात में लूटे थे 3 पेट्रोल पंप

NHAI के जीएम और परियोजना निदेशक मुदित गर्ग ने बताया कि यूपी गेट से डासना के बीच दूसरे चरण में 86 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है. वहीं डासना से चौथे चरण में 75 प्रतिशत काम पूरा हुआ है. इस दौरान कमिश्नर ने कहा कि केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने दिसंबर 2020 तक प्रोजेक्ट पूरा करने की बात कही है. इस पर NHAI ने भरोसा दिलाया कि तय समय तक प्रोजेक्ट पूरा हो जाएगा. बताया कि इसके लिए मैनपावर, मशीनरी को बढ़ाया जा रहा है. कमिश्नर ने कहा कि प्रशासन की ओर से प्रोजेक्ट को पूरा करने में सहयोग किया जाएगा. समीक्षा में मेरठ डीएम अनिल ढींगरा, गाजियाबाद डीएम अजय शंकर पांडेय, NHAI के जीएम मुदित गर्ग, विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे.

मेरठ: फर्जी ट्रस्ट बनाकर राम मंदिर निर्माण के नाम पर हो रही थी ठगी, एक अरेस्ट

कमिश्नर के समीक्षा में मुआवजे को लेकर किसानों के आंदोलन का मामला भी उठा. इस पर कमिश्नर ने गाजियाबाद, मेरठ डीएम को किसानों के प्रतिनिधियों से बातचीत कर रास्ता निकालने को कहा. इस दौरान कमिश्नर ने NHAI के अधिकारियों को प्रशासन से लगातार संपर्क में रहने को कहा. उन्होंने कहा कि अगर कोई समस्या जिला स्तर पर हल ना हो मंडल कार्यालय को जल्द ही अवगत कराएं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें