मेरठ: विभागों के आनलाइन पोर्टल नही, लोगों को कैसी मिलेंगी 72 घण्टे में एनओसी

Smart News Team, Last updated: Sat, 28th Nov 2020, 2:09 PM IST
  • प्रदेश सरकार ने लोगों को सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम शुरु करने के लिए 72 घंटे के भीतर उद्योग लगाने की मंजूरी देने का वादा किया था. मेरठ में ज्यादातर उद्योग के लिए आवेदन के लिए आनलाइन पोर्टल नहीं है. लोगों के सामने अब ये परेशानी आ रही है कि 72 घण्टे में कैसे एनओसी प्राप्त करें.
लधु उद्योग शुरु करने के लिए शुरु की एमएसएमई योजना

मेरठ: एमएसएमई स्थापना एवं संचालन सरलीकरण अधिनियम 2020 के तहत उद्योग लगाने के लिए एनओसी की जरुरत होती है. जिसके लिए व्यापारियों को आवेदन करने में दिक्कतें आ रही है. व्यापारियों का कहना है उनको जिन विभाग की एनओसी चाहिए, अभी तक उन विभागों के मित्र पोर्टल उपलब्ध नहीं है. ऐसे में व्यापारियों को समय पर एनओसी नहीं मिल पा रही है. एनओसी न मिलने वाले विभागो में मेरठ विकास प्राधिकरण, आवास विकास, नगर निगम जैसे विभाग शामिल है.

प्रदेश सरकार ने 72 घंटे के भीतर प्रदेश में उद्योग लगाने की मंजूरी दी हैं. इसमें यूपी में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम अधिनियम-2020 को लागू करने की मंजूरी दी थी. लेकिन मेरठ में निवेश मित्र पोर्टल आनलाइन नहीं है. जिससे लोगो को परेशानी हो रही है. इस समस्या को निकलने के लिए मेरठ भाजपा महानगर महामंत्री अरविंद गुप्ता मारवाड़ी ने उपायुक्त उद्योग वीके कौशल को ज्ञापन दिया है. ज्ञापन में गुप्ता ने कहा, व्यापारियों को 72 घण्टे के अन्दर एनओसी मिल जानी चाहिए. जिससे लोगों को परेशानी का सामना न करना पड़े. व्यपारी नेता ने बताया है सरलीकरण योजना में मेरठ समिति के सचिव को उपायुक्त उद्योग के तौर पर नियुक्त किया गया है. उन्हें कहा है कि सरकार के आदेश के अनुसार जल्द ही आनलाइन अनुमति प्रदान कर दे. जिससे बाद में व्यापारियों को एनओसी दी जा सकें.

मेरठ: प्रदेश सरकार ने मंडी समिति शुल्क को दो फीसदी से घटाकर एक फीसदी किया

इस मामलें में उपायुक्त वीके कौशल ने आयुक्त एंव निदेशक उद्योग कानपुर को पत्र लिखा है। इसमें उद्यमियों की शिकायत का उल्लेख कर दिशा निर्देश मांगे है. आपको बता दें. मेरठ में निवेश पोर्टल मित्र पर कई विभाग आनलाइन उपलब्ध नहीं है. जिसमें मेरठ विकास प्राधिकरण, आवास विकास, नगर निगम, जिला आपूर्ति विभाग, एसडीएम, एनएचएआई आदि जैसे विभाग शामिल है. ऐसे में एनओसी न मिल पाने के कारण लोगों को मिलने वाली योजना का फायदा समाप्त हो जाता है. अब व्यापारी इस बात से काफी नाराज नजर आ रहे है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें