मेरठ: कब्रिस्तान में कब्रों को तोड़ने पर गुस्साए लोग, हंगामा, धरना प्रदर्शन

Smart News Team, Last updated: Mon, 16th Aug 2021, 12:12 PM IST
  • मेरठ के लावड़ इलाके में कुछ अज्ञात लोगों ने कुछ कब्रों को नुकसान पहुंचा दिया. शिया समुदाय के इस कब्रिस्तान में हुई इस घटना के बाद समुदाय के लोगों ने जमकर हंगामा करते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरना दिया. जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को जल्द से जल्द आरोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन देकर धरना खत्म कराया.
चमारान में स्थित कब्रिस्तान में दो पक्की कब्र बनी थी. जिसे किसी अज्ञात ने क्षतिग्रस्त कर दिया.

मेरठ. मेरठ के लावड़ इलाके में आज वक्त हंगामा शुरू हो गया, जब लोगों को शिया समुदाय के कब्रिस्तान में कब्रों के क्षतिग्रस्त होने की जानकारी हुई. मौके पर पहुंच शिया समुदाय के लोगों को होने के बाद उन्होंने जमकर हंगामा किया. घटना से गुस्साए लोग आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कब्रिस्तान के बाद धरने पर बैठ गए, जिसके बाद मामला बढ़ता देख पुलिस ने मामला शांत कराते हुए जल्द आरोपी की गिरफ्तारी का आश्वासन देकर धरना खत्म कराया.

कब्रिस्तान में बनी पक्की कब्रों को किया क्षतिग्रस्त

इलाके के चमारान में स्थित कब्रिस्तान में दो पक्की कब्र बनी थी. जिसे किसी अज्ञात ने क्षतिग्रस्त कर दिया. घटना की जानकारी मिलते ही इलाके में शिया समुदाय के लोग पुलिस और नगर पंचायत पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए धरने पर बैठ गए. समुदाय के लोगों ने बताया कि यहां उनके बुजुर्गों की कब्र है. जिसको किसी ने क्षतिग्रस्त कर दिया. इससे पहले भी इलाकीय लोग कब्रिस्तान में कचरा फेंकते थे. जिसकी शिकायत नगर पंचायत में की और कचरा उठाने को कहा, लेकिन अभी तक कचरा नहीं उठाया गया.

BJP की जन आशीर्वाद यात्रा आज से शुरू, जनसंवाद संग जातिगत समीकरण साधने की तैयारी

अज्ञात के खिलाफ दी तहरीर

समुदाय के लोगों ने लावड़ चौकी में इस घटना के संबंध में तहरीर दी और आरोपियों पर कार्रवाई की मांग भी की. जिसके बाद मौके पर पहुंचे चौकी प्रभारी ने लोगों को समझाकर धरना खत्म करवाया और जल्द से जल्द आरोपी की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया. जिसके बाद लोग धरना खत्म करके वहां से हटे. इस घटना के बाद से इलाके में समुदाय विशेष के लोगों में काफी रोष है.

मेरठ: बेटे की चाह में पिता ने दो बेटियों को दे दी ऐसी खौफनाक सजा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें