गूगल मैप लगाकर डीएमई से जाने वाले लोग मेरठ की जगह पहुंच रहे हापुड़, जानें कारण

Smart News Team, Last updated: 08/04/2021 02:16 PM IST
गूगल मैप पर लोकेशन अपडेट नहीं होने के कारण लोग पुराने रास्ते से ही मेरठ जा रहे हैं. इसके अलावा मैप लगाकर दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे से मेरठ जाने वाले लोग रास्ता भटक कर हापुड़ पहुंच रहे हैं. जब तक गूगल पर अपडेट नहीं होगा. लोगों के साथ यह समस्या आती रहेगी.
गूगल मैप लगाकर दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे से लोग मेरठ की जगह हापुड़ पहुंच रहे हैं.

मेरठ. एक अप्रैल से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को ट्रायल के तौर पर आम लोगों के लिए खोल दिया गया है जिससे अब दिल्ली से मेरठ की दूरी घंटों की बजाय मिनटों में तय हो रही है. हाल ही में एनएचएआई के अधिकारियों के सामने एक बात सामने आई कि गूगल मैप लगाकर जो लोग डीएमई पर सफर कर रहे हैं, वह डासना से मेरठ की तरफ बने नए रूट पर नहीं जा रहे. लोग गूगल मैप के जरिये पुराने रूट के माध्यम से ही निकल रहे हैं. इसके अलावा लोग रास्ता भटक कर हापुड़ की तरफ जा रहे हैं.

एक अधिकारी ने बताया कि पहले मेरठ जाने के लिए लोग डासना के आगे कुशलिया गांव के अंदर से शॉर्टकट लेकर मेरठ जाते थे. लेकिन अब भी गूगल मैप पर यही अपडेट दिखा रहा है. इस वजह से लोग डासना के पास डीएमई के फ्लाईओवर पर चढ़ने के बजाय नीचे से चले जाते हैं, जो रास्ता हापुड़ की तरफ जाता है. इस वजह से लोग रास्ता भटक रहे हैं. जब तक यह गूगल मैप पर अपडेट नहीं होगा तब तक लोगों को यह समस्या होती रहेगी.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर लोगों को हो रही ये परेशानी, आप भी रखें ध्यान

इस समस्या को देखते हुए एनएचएआई ने डासना के पास रास्ता बताने के लिए वॉलंटियर लगा रखे हैं. साथ ही बड़े-बड़े साइन बोर्ड भी लगाए है ताकि लोग अपने गंतव्य तक पहुंच सके. अधिकारी ने बताया कि 24 घंटे के लिए इस रूट पर वॉलंटियर को लगाया गया है ताकि लोगों को कोई दिक्कत न हो.

UP नाइट कर्फ्यू: ये हैं कोविड प्रोटोकॉल, जानें किस-किस सेवाओं में है छूट

दिल्ली के रहने वाले अनूप तिवारी ने बताया कि 3 दिन पहले दिल्ली से किसी काम के चलते मेरठ गए थे.उन्होंने लोकेशन के लिए गूगल मैप का उपयोग किया. मैप से वे हापुड़ की तरफ निकल गए. छिजारसी टोल प्लाजा के पास उन्हें पता चला कि वह गलत रास्ते पर हैं. फिर वह हापुड़ होते हुए मेरठ तक गए. इसी तरह नोएडा के रहने वाले वैभव चौधरी ने बताया कि एक अप्रैल को भाई के साथ मेरठ काम से जा रहे थे. डासना के पास से एक्सप्रेसवे पर भेजने के बजाय गूगल मैप ने हापुड़ की तरफ से रास्ता दिखा दिया. फिर करीब 5 किमी आगे जाने के बाद पता चला कि वे गलत रास्ते पर है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें