इंस्पेक्टर ने कराया ऐसा अनोखा समझौता, हर दिन 108 बार गायत्री मंत्र का करेंगे पाठ

Smart News Team, Last updated: Thu, 1st Apr 2021, 2:04 PM IST
  • मेरठ में अनोखा पुलिसिंग का एक मामला सामने आया है जिसमें परिवार के बीच इंस्पेक्टर ने ऐसा समझौता करा दिया है. जिसके बाद वह हर दिन गायत्री मंत्र का 108 बार साथ बैठकर जाप करने के तैयार हो गए हैं. 
मेरठ में अनोखी पुलिसिंग, ऐसा समझौता जिसमें दोनों पक्ष साथ बैठकर करेंगे अब गायत्री मंत्र का पाठ.

मेरठ. मेरठ में अनोखी पुलिसिंग का उदाहरण देखने को मिला है जिसको सुनने के बाद हर किसी के मन में सवाल भी खड़े होने लगे हैं. मेरठ के नौचंदी थाने में फरियादियों पर चंदन तिलक और गंगाजल छिड़ककर थाने के इंस्पेक्टर प्रेमचंद्र शर्मा चर्चा में आ गए हैं.

परिवार के बीच समझौता होने के बाद समझौतानाम ऐसा लिखकर दिया है जिसके बाद पुलिसिंग पर सवाल उठ रहे हैं. समझौतानामा में लिखा गया कि हिंदी कैलेंडर के साल और महीने के अनुसार परिवार के तीन लोगों के बीच सहमति बनती है जिसमें वह तीनों देवमाता गायत्री देवी की शरण में जाने की बात कहते हैं. साथ ही गायत्री मंत्र का 108 बार हर दिन जाप करने का प्रण करते हैं. इसी के साथ सामान्य परिस्थितियों में ब्रह्ममुहूर्त में उठकर पूरी श्रद्धा और सनातन हिंदू धर्म के संस्कारों के अनुसार अपना जीवन बढ़ाएंगे. 

मेरठ में डॉक्टर की बेटियों को कंपाउंडर ने बनाया बंधक, आरोपी गिरफ्तार

मिली जानकारी के अनुसार शास्त्रीनगर के रहने वाले 58 साल के व्यक्ति ने दो महीने पहले गाजियाबाद की एक तालाकशुदा महिला के साथ शादी कर ली थी. शादी के बाद व्यक्ति अपनी पत्नी के 19 साल के बेटे के साथ एक घर में रहने लगे.

व्यक्ति ने आरोप लगाया कि मां और बेटा उसकी पिटाई करते हैं और उसकी संपत्ति हड़पना चाहते हैं. जिसकी शिकायत व्यक्ति ने नौचंदी थाने में कर दी. व्यक्ति ने बताया कि इंस्पेक्टर ने कार्रवाई करने के बजाए दोनों पक्षों में इस तरह का समझौतानामा लिखवा दिया. 

मेरठ दिल्ली एक्सप्रेसवे शुरू, चलती गाड़ी में कटेगा टोल, जानें क्या है खास

इस मामले पर वरिष्ठ अधिवक्ता राजकुमार शर्मा का कहना है कि हमारा कानून आईपीसी, सीआरपीसी और पुलिस मैनुअल से चलता है. वहीं इस तरह की पुलिसिंग ठीक नहीं है. ऐसे इंस्पेक्टरों को थाने के मंदिर का चार्ज दे दिया जाए.

वहीं नौचंदी थाने के इंस्पेक्टर प्रेमचंद्र शर्मा का कहना है कि व्यक्ति की शिकायत पर महिला और उसके बेटे पर केस दर्ज कर लिया गया था लेकिन कुछ देर बाद दोनों पक्ष समझौतानामा लेकर आ गए. उसमें वयक्ति और दूसरे पक्ष ने क्या लिखा था इससे उनका लेना-देना नहीं है. 

योगी सरकार का फैसला- उत्तर प्रदेश कोविड-19 महामारी की चपेट में घोषित 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें