गोवंश कटान की सूचना पर पहुंची पुलिस आरोपियों ने सिपाही के गले में डाला फंदा

Smart News Team, Last updated: Tue, 12th Jan 2021, 4:32 PM IST
  • मेरठ के मवाना थाना क्षेत्र में जैसे ही पुलिस को गोवंश काटे जाने की सूचना मिली, तो वह मौके पर पहुंच गई. हालांकि, इस दौरान आरोपी परिवार के सदस्यों ने पुलिसकर्मियों पर हमला बोल दिया.
मेरठ के मवाना थाना क्षेत्र में जैसे ही पुलिस को गोवंश काटे जाने की सूचना मिली, तो वह मौके पर पहुंच गई

मेरठ:मेरठ के मवाना थाना क्षेत्र में जैसे ही पुलिस को गोवंश काटे जाने की सूचना मिली, तो वह मौके पर पहुंच गई. हालांकि, इस दौरान आरोपी परिवार के सदस्यों ने पुलिसकर्मियों पर हमला बोल दिया. आरोपियों ने ना सिर्फ पुलिस के साथ बदसलूकी की, बल्किल महिला पुलिसकर्मी के गले में फंदा डालकर उसे जान से मारने की कोशिश भी की. पुलिस टीम पर हमले की सूचना पर तुरंत ही आसपास के थानों से पुलिस फोर्स भेजी गई. मौके से दो महिलाओं सहित तीन को हिरासत में लिया गया. मौके से तीन कुंतल मांस, अवशेष तथा औजार व तीन बाइक बरामद करने का दावा किया गया है. थाना प्रभारी ने 10 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है.

इस मामले में थाना प्रभारी प्रेमचंद शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि सूचना मिली थी कि गांव सठला में वरीश कुरैशी के घर में पशुओं का कटान हो रहा है. सूचना पर पुलिस फोर्स के साथ मौके पर दबिश दी गई तो वहां पर पशुओं का कटान होता मिला. जैसे ही मकान का दरवाजा खुलवाया गया तो कटान कर रहे लोग उग्र हो गए. आरोपियों ने हाथों में लिए चाकू-छुरे पुलिस पार्टी पर तान दिए और जान से मारने की नीयत से पुलिस पार्टी पर हमला बोल दिया. पुलिस पार्टी को धक्का देते हुए आरोपी छतों पर चढ़ गए और धमकी देने लगे. इस दौरान पुलिस ने हिम्मत कर एक व्यक्ति को दबोच लिया. इसके बाद दो महिलाओं ने एक महिला कांस्टेबल को दबोचकर उसके गले में रस्सी का फंदा डालकर जान से मारने का प्रयास किया. पीड़ित कांस्टेबल को अन्य महिला पुलिसकर्मियों ने बचाया. स्थिति से आला अधिकारियों को अवगत कराया. आसपास के थानों की पुलस मौके पर पहुंच गई.

मेरठ न्यूज : शनिवार से कोरोना टीकाकरण अभियान, CM ने वीसी से देखी फाइनल मॉक ड्रिल

बता दें, पुलिस ने मौके से उवेश पुत्र आरिफ, महराज पत्नी शकील, आफरीन पुत्री इकरार निवासी सठला को गिरफ्तार किया, जबकि  वरीश कुरैशी, डिर्रा उर्फ फिरोज कुरैशी, अमजद कुरैशी, फुरकान कुरैशी, इकराम कुरैशी, जैद कुरैशी तथा आफाक कुरैशी फरार हो गए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें