बिजली अभियंताओं ने दी चेतावनी, नहीं मानी मांगे तो तेज करेंगे आंदोलन

Smart News Team, Last updated: Tue, 1st Jun 2021, 6:33 PM IST
  • उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन के चेयरमैन एम. देवराज के अनावश्यक तौर पर इंजीनियरों और बिजली कर्मचारियों का उत्पीड़न करने के विरोध में पिछले चार दिनों से बिजली अभियंता कार्य बहिष्कार करके विरोध जता रहे है.
बिजली अभियंताओं ने चौथे दिन भी जारी रखा कार्य बहिष्कार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मेरठ. मेरठ में बिजली अभियंताओं ने पश्चिमांचल में लगातार चौथे दिन भी अपना कार्य बहिष्कार करना जारी रखा. उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन के चेयरमैन एम. देवराज के अनावश्यक तौर पर अभियंताओं और बिजली कर्मियों का उत्पीड़न करने के कारण सभी इलेक्ट्रिकल इंजीनियर बीते चार दिनों से अपना कार्य बहिष्कार करके विरोध जता रहे है. इंजीनियरों ने चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांगे नहीं मानी गई तो वे आंदोलन तेज करेंगे. हालांकि इस दौरान ऑक्सीजन प्लांटों, अस्पतालों और आम जनता की बिजली आपूर्ति में कोई बाधा नहीं होगी.

उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत परिषद अभियन्ता संघ के अध्यक्ष वीपी और मेरठ एके सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी और ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के निर्देशों पर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर लगातार निर्बाध बिजली आपूर्ति उपलब्ध कराने में जुटे हुए है. लेकिन पावर कॉरपोरेशन के चेयरमैन एम. देवराज अनावश्यक तौर पर बिजली अभियंताओं के खिलाफ कार्रवाई कर रहे है. इसके कारण बिजली विभाग में काम करने का वातावरण भी खराब हो रहा है.

CM योगी ने कहा- हमने कोविड की दूसरी लहर पर नियंत्रण किया, अब 61 जिलों में कोरोना कर्फ्यू में छूट

बिजली अभियंताओं ने सीएम योगी और ऊर्जा मंत्री का ध्यान इस मामले की ओर आकर्षित करने के लिए यह फैसला किया है कि वे कार्यालय समेत बाकी कोई कार्य नहीं करेंगे. लेकिन ऑक्सीजन प्लांटों, अस्पतालों और आम नागरिकों के लिए बिजली आपूर्ति बनाए रखी जाएगी. अभियंताओं की मांग है कि जब तक पावर कॉरपोरेशन के चेयरमैन उत्पीड़नात्मक कार्रवाई को रद्द नहीं करेंगे और अन्य कार्रवाई वापस नहीं लेंगे, वे आंदोलन को जारी रखेंगे. इसी क्रम में प्रदेश के लगभग तीन हजार इंजीनियरों ने पावर कॉरपोरेशन प्रबंधन के विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुपों को भी एक्जिट कर दिया है.

मस्जिद में अवैध निर्माण को रोकने गई पुलिस के साथ धक्का-मुक्की, SP ने खदेड़ी भीड़

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें