अपने काफिले के साथ दिल्ली रवाना हुए राकेश टिकैत, 'कृषि कानून' का कर रहे विरोध

Smart News Team, Last updated: Sun, 29th Nov 2020, 7:49 PM IST
  • मेरठ: सरकार के 'कृषि कानून' का विरोध करने के लिए देशभर के किसाने एकजुट होकर सिंधु बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसान लगातार कृषि कानून के विरोध और अपनी अन्य मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. अब पंजाब हरियाणा के किसानों का साथ देने के लिए भाकियू नेता राकेश टिकैत भी किसानों के काफिले के साथ रवाना हुए.
किसान आंदोलन

मेरठ: सरकार के 'कृषि कानून' का विरोध करने के लिए देशभर के किसाने एकजुट होकर सिंघु बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसान लगातार कृषि कानून के विरोध और अपनी अन्य मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. अब पंजाब हरियाणा के किसानों का साथ देने के लिए भाकियू नेता राकेश टिकैत भी किसानों के काफिले के साथ रवाना हुए. शनिवार की सुबह मोदीपुरम के टोल प्‍लाजा से यह काफिला दिल्ली के लिए रवाना हुआ था. दोपहर में करीब एक बजे परतापुर पार कर गया, इस दौरान मेरठ ट्रैफिक पुलिस ने परतापुर में अन्‍य वाहनों को रोके रखा था, जिससे कुछ समय के लिए यहां पर जाम के हालात बने रहे.

मेरठ: जिले में तेजी से फैल रहा कोरोना, 382 नए मामले आए सामने, चार की मौत

इसके पहले सिवाया टोल प्लाजा पर शुक्रवार रात ठहरने के बाद भाकियू नेता राकेश टिकैत अपने काफिले के साथ शनिवार दस बजे सुबह दिल्ली के लिए रवाना हुए थे. सरकार ने जिन फसलों पर एमएसबी लगाया है, उन फसलों को किसानों से एमएसबी के नीचे रेट से व्यापारी न खरीदे, इसी मांग को लेकर दिल्ली कूच के लिए निकले भाकियू नेता राकेश टिकैत और अन्य किसान शुक्रवार रात सिवाया टोल के पास भगवती कालेज में ठहरे थे. कुछ किसान ट्रैक्टर-ट्रॉली को टोल के पास खड़ी उस पर सोए थे. शनिवार सुबह करीबी दस बजे भाकियू से जुड़े किसान टोल से दिल्ली के लिए रवाना हुए. किसान सरकार के कृषि कानून का भी विरोध कर रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें