‘सपा की लाल टोपी’ वापस नहीं मिलने पर SP नेता विनोद जाटव ने की आत्मदाह की घोषणा

Smart News Team, Last updated: Fri, 8th Jan 2021, 1:00 PM IST
  • मेरठ में समाजवादी दलित सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनोद जाटव ने कहा कि रिहाई के बाद उन्हें पुलिस द्वारा ‘सपा की लाल टोपी’ नहीं दी गई है. उन्होंने 11 जनवरी को कमिश्नरी पर आत्मदाह करने की घोषणा की है. 
समाजवादी दलित सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनोद जाटव

मेरठ. मेरठ में समाजवादी दलित सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनोद जाटव ने पुलिस द्वारा ‘सपा की लाल टोपी’ ना देने पर 11 जनवरी को आत्मदाह करने की घोषणा की है. बीते साल 15 दिसंबर को कमिश्नरी चौराहे पर विनोद जाटव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंका था. पुतला फूंकने के बाद उन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.

विनोद जाटव ने कहा कि 15 दिसंबर 2020 को मेरे द्वारा कमिश्नरी चौराहे पर सीएम योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंका गया था. इसके बाद मुझे पुलिस गिरफ्तार कर सिविल लाइन थाने में ले गई थी. गिरफ्तारी के दौरान ‘सपा की लाल टोपी’, मोबाइल और मेरा बेल्ट जमा कर लिया गया था. 

दान में मिली जमीन नीलाम कर रही गांधी आश्रम समिति, शिकायत के बाद जांच शुरू

विनोद जाटव ने बताया कि 18 दिसंबर 2020 को जेल से छूटने के बाद मोबाइल मिल गया लेकिन मेरी ‘सपा की लाल टोपी’ और बेल्ट वापस नहीं किया गया. उन्होंने कहा कि बेल्ट मिले न मिले मगर ‘सपा की लाल टोपी’ मेरा मान सम्मान, मेरा गौरव है. अगर ‘सपा की लाल टोपी’ नहीं मिली तो मैं 11 जनवरी को कमिश्नरी ऑफिस पर आत्मदाह करूंगा. 

भारतीय डॉक्टरों ने लंदन में लगवाया कोरोना वैक्सीन, दोस्तों को फोन पर दी जानकारी

बता दें कि 15 दिसंबर 2020 को करीब दोपहर 12 बजे सपा नेता विनोद जाटव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंका था. पुलिस ने आनन-फानन में पुतला फूंकने के आरोप में विनोद जाटव को हिरासत में ले लिया. जबकि, विनोद जाटव के दो साथी विपिन निवासी किनानगर व नितिन जाटव निवासी किनानगर मौके से फरार हो गए थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें