मेरठ DM से मिले सपा-RLD नेता, जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर की ये शिकायत

Smart News Team, Last updated: Sun, 27th Jun 2021, 3:58 PM IST
  • जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर सपा और रालोद नेताओं ने डीएम के. बालाजी से मुलाकात की. इस दौरान नेताओं ने सपा प्रत्याशी को अपनी बात रखने का समय नहीं देने की शिकायत की. जिस पर डीएम ने कहा कि उन्हें पर्याप्त समय दिया गया. लेकिन जब अनुमोदक ही इनकार कर दे तो क्या कर सकते है.
जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर सपा, RLD नेताओं ने डीएम से की मुलाकात (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मेरठ. जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर सपा प्रत्याशी सलोनी गुर्जर का नामांकन निरस्त होने के बाद रविवार को सपा नेताओं ने डीएम के. बालाजी से मिलकर शिकायत की है. उन्होंने कहा कि सपा प्रत्याशी को शनिवार को अपनी बात रखने का समय नहीं दिया गया. इस पर डीएम ने कहा कि प्रत्याशी को पूरा समय दिया गया था. लेकिन जब उनके अनुमोदक ने ही इंकार कर दिया तो इसमें क्या किया जा सकता है. डीएम के अनुसार नियमानुसार सारी कार्रवाई की गई है.

रविवार को कलेक्ट्रेट विशेष तौर पर खुला रहा. सुबह साढ़े दस बजे के करीब सपा और रालोद नेता डीएम से मिलने के लिए कार्यालय पहुंचे. नेताओं ने करीब 15 मिनट तक डीएम से बातचीत की. जिसमें कहा गया कि शनिवार को सपा प्रत्याशी सलोनी गुर्जर को पूरा समय नहीं दिया गया. वहीं भाजपा के प्रत्याशी ने एक घंटे तक आपसे बातचीत की. साथ ही भाजपा प्रत्याशी गौरव चौधरी के नामांकन को एकतरफा गलत भी बताया. डीएम ने इस पर कहा कि सपा प्रत्याशी को नामांकन के बाद अपने प्रस्तावक व अनुमोदक को जांच के लिए बुलाया गया था. लेकिन वे समय पर नहीं आ पाई. जिस पर उनका नामांकन निरस्त कर दिया गया.

मेरठ: 8 जुलाई से चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं शुरू, जानें डिटेल्स

दरअसल शनिवार को जिला पंचायत चुनाव के नामांकन के बाद भाजपा प्रत्याशी गौरव चौधरी ने डीएम से शिकायत की थी कि सपा प्रत्याशी सलोनी गुर्जर के अनुमोदक अश्वनी शर्मा के हस्ताक्षर फर्जी है. जिसके बाद डीएम ने सपा प्रत्याशी को अपना पक्ष रखने के लिए 3 बजे कार्यालय बुलाया था. लेकिन प्रत्याशी से पहले उनके अनुमोदक अश्वनी शर्मा ने कार्यालय पहुंचकर शपथ पत्र दाखिल करते हुए आरोप लगाया कि उनके फर्जी साइन किए गए है. 

वहीं सपा प्रत्याशी सलोनी गुर्जर डीएम के बुलाने के करीब एक घंटे बाद कार्यालय पहुंची और कहा कि उनके अनुमोदक उन्हें मिले नहीं. लेकिन उनके अनुमोदक अश्वनी शर्मा को कार्यालय में बैठा देखकर वे हैरान रह गई. जिसके बाद डीएम के. बालाजी ने नियमानुसार कार्रवाई करते हुए सपा प्रत्याशी का नामांकन खारिज कर दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें