Delhi-Meerut Expressway : 15 नवंबर से भरना होगा टोल टैक्स, नहीं चलेंगे दो और तीन पहिया वाहन

Uttam Kumar, Last updated: Sat, 13th Nov 2021, 10:30 AM IST
  •  Delhi-Meerut Expressway पर टोल टैक्स वसूलने के लिए ट्रायल शुरू हो चुका है. 15 नवंबर से नियमित रूप से टोल टैक्स वसूलना शुरू हो जाएगा. एनएचएआई ने दिल्ली मेरठ एक्स्प्रेसवे के लिए टोल दरें निर्धारित कर परिवहन मंत्रालय को भेज दी हैं. 
मेरठ दिल्ली एक्सप्रेसवे, फाइल फोटो

मेरठ. दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस(Delhi-Meerut Expressway) वे टोल टैक्स वसूले जाने के लिए ट्राइल शुरू हो चुका है. एनएचएआई(NHAI) की तरफ से दिल्ली मेरठ एक्स्प्रेसवे के लिए टोल दरें निर्धारित कर परिवहन मंत्रालय को भेज दी गई है. टोल के लिए 2.34 रुपये प्रति किलोमीटर दर प्रस्तावित है. परिवहन मंत्रालय से मंजूरी मिलते ही 15 नवंबर से टोल वसूली नियमित रूप से शुरू हो जाएगी. यानी 15 नवंबर से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर सफर का नांद लेने के लिए आपको एक निश्चित राशि चुकानी पड़ेगी. 

एनएचएआई की तरफ से दिल्ली मेरठ एक्स्प्रेसवे के लिए भेजे गए टोल टैक्स की डरे कुछ इस प्रकार हो सकती है. निजी वाहनों के लिए सराय काले खां से मेरठ तक का 140 रुपये, गाजियाबाद से मेरठ तक का 95 रुपये, डासना से मेरठ तक का 60 रुपये निर्धारित हो सकता है वहीं, बात अगर व्यावसायिक वाहनों की करें तो दिल्ली से मेरठ तक व्यावसायिक वाहनों में हल्के व्यावसायिक वाहन के लिए 225 रुपये, बस और ट्रक के लिए 470 रुपये, थ्री एक्सल वाहन के लिए 515 रुपये, छह से अधिक एक्सल वाहन के लिए 900 रुपये और चार से छह एक्सल वाहन के लिए 740 रुपये निर्धारित किए जा सकते हैं.

जेवर एयरपोर्ट का 25 नवंबर को PM मोदी करेंगे शिलान्यास, 2023 में होगा चालूः CM योगी 

दिल्ली मेरठ एक्स्प्रेसवे पर टोल टैक्स वसूलने के लिए कंपनी ने पूरा खाका तैयार कर लिया है. इसके लिए 100 कर्मचारी को तैनात किया जाएगा जो तीन शिफ्टों में काम करेंगे. काशी टोल प्लाजा (Kashi Toll Plaza) शुरू होने के बाद दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर दोपहिया(two wheeler) और तिनपहिया (three wheeler) गड़ियों की आवाजाही पुरी तरह से पाबंदी लगा दी जाएगी. इसके साथ ही वाहनों की रफ्तार पर लगाम लगाने के लिए दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर ऑटोमेटिक कैमरों को भी शुरू किया जाएगा, जिससे वाहनों की रफ्तार अधिक होने पर उस गाड़ी का अपने चालान(Automatic challan) कट जाएगा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें