तनाव और अकेलेपन से तंग आकर जल निगम के JE ने कर ली आत्महत्या

Prince Sonker, Last updated: Mon, 11th Oct 2021, 6:22 PM IST
  • शनिवार की रात बिजनौर में जल निगम के जेई ने मानसिक तनाव और अकेलेपन से तंग आकर फांसी लगाकर जान दे दी. सुसाइड से पहले युवक ने अपने परिवार और दोस्तों से बात की थी, बात करने के दौरान वह काफी परेशान लग रहे थे.
(प्रतीकात्मक फोटो)

मेरठ. उत्तर प्रदेश के बिजनौर में शनिवार को जल निगम में तैनात जेई ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. बताया जा रहा है कि तनाव और अकेलेपन की वजह से जेई ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. आत्महत्या से तीन धंटे पहले उसने वीडियो कॉलिंग कर अपने पिता और दोस्तों से बात की थी लेकिन किसी को भी यह अंदेशा नहीं था कि वह आत्महत्या कर लेगा. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. पुलिस ने बताया कि मृतक के परिजन शव को अपने साथ हाथरस ले गए.

जिला हाथरस के थाना चंद्पा के गांव नगला दुर्ज निवासी अलबेल सिंह बिजनौर के जल निगम विभाग में 2015 से जेई के पद पर कार्यरत थें. वह बिजनौर में अंबा विहार कॉलोनी में किराए पर रह रहे थे. उनके पिता रणवीर सिंह के मुताबिक बीती रात परिवार के लोगों ने उनके मोबाइल पर फोन किया लेकिन फोन नहीं उठा. इसके बाद उन्होंने एक परिचित को कमरे में भेजा तो बेटे का शव पंखे में फंदे से लटकता मिला.

शादी की जिद कर रही गर्लफ्रेंड को कोल्ड ड्रिंक में सल्फास मिलाकर पिलाया, मौत

पिता ने बताया कि शनिवार की शाम सात बजे से लेकर दस बजे तक बेटे ने वीडियो कॉलिंग कर उनसे और परिवार के अन्य सदस्यों से बात की थी. वह कह रहा था कि पापा मेरे पास आ जाओ, हम आपको बुला रहे हैं ना, यहां आकर रहो. वहीं दोस्तों को भी फोन करके कहा कि मैं अकेला हूं, आ जाओ बैठकर बात करेंगे, लेकिन दोस्तों को अंदेशा नहीं था कि जेई अलबेल सिंह आत्महत्या कर लेंगे. पिता ने बताया कि बात करते वक़्त उन्हें बेटे की मनोदशा का अंदाजा हो गया था. वह काफी तनाव में लग रहे थे. कोई अनहोनी न हो जाए इसीलिए पिता रणवीर सिंह ने पुलिस को फोन भी किया था. पुलिस जब तक जेई के घर पहुंची अलबेल सिंह सुसाइड कर चुके थे. पिता इसी सप्ताह बेटे की शादी के लिए लड़की देखने जाने वाले थे लेकिन खुशियां मातम में बदल गई. प्रभारी निरीक्षक राधेश्याम ने बताया कि घरेलू कलह के चलते जेई ने आत्महत्या की है. पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजन बिना किसी कार्रवाई के ही शव को अपने साथ ले गए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें