कृषि कानून के विरोध में मेरठ डीएम को ज्ञापन देने के बाद आपस में भिड़े छात्र

Smart News Team, Last updated: Mon, 11th Jan 2021, 2:59 PM IST
  • केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानून के विरोध में मेरठ डीएम को ज्ञापन देने के बाद छात्रों का दो गुट आपस में भिड़ गया. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने छात्रों को शांत कराया.
मेरठ डीएम को ज्ञापन देने के बाद छात्र आपस में भीड़ गए.

मेरठ. मेरठ डीएम को ज्ञापन देने के बाद सोमवार को कमिश्नरी पार्क के पास समाजवादी पार्टी के छात्र नेताओं के दो गुट आपस में भिड़ गए. छात्रों के दोनों गुट के बीच में जमकर मारपीट हुई.दोनों गुट के छात्रों ने एक दूसरे पर बेल्ट से भी वार किया. इसमें कई छात्र घायल हो गए हैं. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने छात्रों को शांत कराया.

सोमवार को समाजवादी पार्टी के छात्र नेता प्रदीप कसाना के नेतृत्व में 100 से ज्यादा छात्र डीएम कार्यालय पर ज्ञापन देने पहुंचे. मिली जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानून के विरोध में ज्ञापन देने 100 से ज्यादा छात्र गए थे. साथ ही गैस सिलेंडर में सब्सिडी बंद होने, बिजली विभाग द्वारा की गई छापेमारी के विरोध में, एससी एसटी के छात्रों को जीरो शुल्क प्रवेश देने को लेकर भी छात्रों ने ज्ञापन दिया. 

मेरठ में युवा व्यापारी की हत्या, रोड जाम, दुकानें बंद, दो महिलाओं की मिली लाश

ज्ञापन देने के बाद कमिश्नरी पार्क के पास किसी बात को लेकर छात्र आपस में भीड़ गए. छात्रों का दो गुट बन गया. मामला इतना बढ़ गया कि छात्रों के दोनों गुट आपस में जमकर मारपीट करने लगे. कई छात्रों ने अपनी बेल्ट निकालकर भी एक-दूसरे पर वार किया. इससे अफरातफरी मच गई.

कमिश्नरी पार्क के पास छात्र आपस में भीड़ गए.

बर्ड फ्लू से बेकरी कारोबार का बड़ा नुकसान, एक सप्ताह में मचा हाहाकार

सूचना के बाद घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने आपस में लड़ रहे छात्रों को खदेड़ा. पुलिस ने दोनों गुट को समझाया और मामला शांत कराया. इसके बाद छात्र घटनास्थल से अपनी घर के लिए गए. मामले को लेकर पुलिस ने बताया कि डीएम कार्यालय से ज्ञापन देने के बाद छात्रों के दो गुट आपस में भिड़ गए. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें