चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी के कोर्स में बदलाव, CM योगी की किताब हठयोग पढेंगे छात्र

Smart News Team, Last updated: Mon, 31st May 2021, 3:53 PM IST
  • मेरठ की चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रम में कई बदलाव किए गए हैं. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ की किताब हठयोग और बाबा रामदेव की किताब योग साधना और योग चिकित्सा को कोर्स में शामिल किया गया. इसके अलावा कई नामचीन हस्तियों के बारे में छात्रों को पढ़ाया जाएगा.
चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी के बोर्ड ऑफ स्टडीज ने नए पाठ्यक्रमों को मंजूरी दी.

मेरठ. चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी मेरठ के छात्र अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की लिखी किताब पढ़ेंगे. इसके अलावा बाबा रामदेव, बशीर बद्र समेत कई जानी-मानी हस्तियों को कोर्स में शामिल किया गया है. चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के बोर्ड ऑफ स्टडीज ने इन नए पाठ्यक्रमों को मंजूरी दे दी है. जिसके बाद इन किताबों को कोर्स में शामिल करने का फैसला किया है.

बोर्ड ऑफ स्टडीज की मंजूरी मिलने के बाद अब मेरठ की चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की लिखी किताब हठयोग की पढ़ाया जाएगा. आपको बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ की इस किताब को गोरखनाथ ट्रस्ट ने छापा है. सीएम ने इस किताब में हठयोग के स्वरूप और साधना के बारे में लिखा है. इस बारे में अब चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी के छात्र पढ़ सकेंगे.

मेरठ जेल के इस कैदी ने पैरोल पर रिहाई को ठुकराया, बाहर जाने से क्यों किया इंकार

मिली जानकारी के अनुसार, सीएम योगी आदित्यनाथ की पुस्तक के अलावा चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में बाबा रामदेव की किताब योग साधना और योग चिकित्सा रहस्य को भी पाठ्यक्रम में शामिल किया है. जिसके बाद अब बीए दर्शनशास्त्र में योग का प्रैक्टिकल और थ्योरी दोनों की पढ़ाई होगी.

UP अनलॉक: अभी नहीं खुलेंगे स्कूल, कॉलेज, सिनेमा, मॉल, जिम और स्वीमिंग पूल

मेरठ की चौधरी चरण सिंह यूनविर्सिटी के पाठ्यक्रम में कई बदलाव किए गए हैं. हिंदी साहित्य में उर्दू गीतकार कुंवर बेचैन और मशहूर शायर बशीद्र बद्र के बारे में पढ़ाया जाएगा. वहीं फिजिक्स में आर्यभट्ट के बारे में पढ़ाई होगी. इसके अलावा मोटिवेशनल गुरु सदगुरु जग्गी वासुदेव को भी विश्वविद्यालय के कोर्स में शामिल किया गया है. बीएसी के कोर्स में भास्कराचार्य, लीलावती, रामानुजन, माधवाचार्य के बारे में पढ़ाया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें