पाकिस्तान से आए हिंदू परिवारों को CM योगी ने इस शहर में दी शरण

Shubham Bajpai, Last updated: Thu, 11th Nov 2021, 5:10 PM IST
  • यूपी चुनाव से पहले प्रदेश की योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल ने पाकिस्तान से आए हिंदू परिवारों को बड़ा तोहफा देते हुए 63 परिवारों को कानपुर में पुनर्वासित करने का निर्णय लिया है. इन ये सभी 1970 में पूर्वी पाकिस्तान से आकर हस्तिनापुर में आकर बसे थे.
पाकिस्तान से आए इन हिंदू परिवारों को CM योगी का बड़ा तोहफा, इस शहर में दे रहे जमीन

मेरठ. हस्तिनापुर में 1970 से आकर बसे हिंदू बंगाली परिवार पुनर्वासन के लिए काफी समय से प्रयासरत थे. अब इन परिवारों को पुनर्वासन का फैसले प्रदेश की योगी सरकार कैबिनेट ने लिया है. इन परिवारों को कानपुर देहात की रसूलाबाद तहसील के अंतर्गत पुनर्वासन किया जाएगा. इसको लेकर कैबिनेट बैठक में निर्णय लिया गया है. सरकार 63 परिवारों को कानपुर में पुनर्वासित कर रही है.

1970 में पूर्वी पाकिस्तान से आकर हस्तिनापुर में बसे

ये सभी हिंदू बंगली परिवार 1970 में पूर्वी पाकिस्तान से आकर हस्तिनापुर में बसे थे. उससे पहले सरकार द्वारा 1954 पुनर्वासन अधिनियम के तहत 332 परिवारों को सहायता देकर उड़ीसा एवं बदायूं में आवासीय एवं कृषि भूमि देकर पुनर्वासित किया गया था. उस वक्त बचे परिवारों को हस्तिनापुर में मदन सूत मिल में नौकरी देकर पुनर्वासित किया गया था. मिल बंद होने के बाद से सभी परिवार पुनर्वसित होने के लिए प्रयास कर रहे थे.

UP के किसानों को इस साल से मिलेगा गन्ने का बढ़ा मूल्य, यूपी कैबिनेट ने लगाई मुहर

इस शहर में मिलेगी इतनी जमीन

योगी कैबिनेट इन पुनर्वासित 63 परिवारों को कानपुर देहात के रसूलाबाद के भैंसाया गांव में 121.41 हेक्टेयर भूमि देने जा रही है. जिसमें प्रति परिवार कृषि के लिए 2 एकड़ भूमि, मकान बनाने के लिए 200 वर्ग मीटर जमीन व 1.20 लाख रुपये और मनरेगा आवश्यकतानुसार भूमि सुधार व सिंचाई सुविधा काम दिया जाएगा.

UP Elections 2022: सीएम योगी के कैराना दौरा के बाद मुजफ्फरनगर में आज अखिलेश यादव की बड़ी रैली

1 रुपये लीज रेट पर 90 साल के लिए रिन्यू होगी जमीन

सरकार के निर्देश अनुसार, सभी परिवार को 1 रुपये लीज रेट पर पहली बार 30 साल के पट्टे पर जमीन दी जाएगी. ये पट्टा अधिकतम दो बार 30 साल के लिए रिन्यू हो जाएगा. इसे अधिकतम 90 साल के लिए रिन्यू किया जाएगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें