यूपी चुनाव: पाकिस्तानी बेटी ने देवबंद में दिया वोट, बोलीं- भारत की बहू होने का फर्ज निभाया

Swati Gautam, Last updated: Tue, 15th Feb 2022, 9:04 PM IST
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में पाकिस्तानी बेटी शमीम परवीन ने पाकिस्तान से आकर देवबंद में वोट दिया. शमीम ने बताया कि 25 साल पहले उनका निकाह देवबंद में हुआ था. अब उन्हें भारतीय नागरिकता मिल गई है जिसके बाद पहली बार वोट देकर शमीम ने भारतीय बहू होने और राष्ट्र के निर्माण में अपनी महती भूमिका निभाई.
पाकिस्तानी बेटी ने देवबंद में दिया वोट (file photo)

मेरठ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में न केवल भारतीय बल्कि सरहद पार पाकिस्तान नागरिक भी हिस्सा बने हैं. हाल ही में यूपी चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग खत्म हुई है जिसमें एक मतदाता की चर्चा आज हर कहीं हो रही है. दूसरे चरण में मेरठ, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, कैराना, बिजनौर, मुरादाबाद, बरेली समेत देवबंद में वोटिंग हुई जिसका हिस्सा एक पाकिस्तानी बेटी बनी. देवबंद में पाकिस्तान की बेटी शमीम ने वोट डालकर मताधिकार का उपयोग कर राष्ट्र के निर्माण में अपनी महती भूमिका निभाई. शमीम परवीन ने बताया कि वह पाकिस्तान की रहने वाली है और उनका निकाह 25 साल पहले सहारनपुर के देवबंद में हुआ. पहली बार उनका नाम भारत की वोटर लिस्ट में आया जिसके बाद शमीम पाकिस्तान से भारत आईं और वोट दिया.

देवबंद में वोट देकर बाहर निकली पाकिस्तान की शमीम काफी खुश नजर आईं. शमीम ने अपनी खुशी का इजहार करते हुए वोट के दौरान लगाई गई स्याही को दिखाया. जिसके बाद शमीम ने कहा कि मैंने वोट डालकर भारत की बहू होने का फर्ज निभाया है. उन्होंने बताया कि शमीम परवीन के निकाह को 25 साल हो गए हैं लेकिन इस 25 सालों में वह इस देश की मतदाता नहीं बन सकी थी. लेकिन इस बार उसका नाम वोटर लिस्ट में शामिल हुआ और वह मतदाता बन गई. शादी के 25 साल बाद शमीम परवीन ने पहली बार भारत में वोट दिया.

पाकिस्तानी घोषित पिता 7 साल से डिटेंशन सेंटर में बंद, रिहाई के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे बेटा-बेटी

शमीम परवीन ने कहा कि उन्हें अब भारतीय नागरिकता भी मिल गई है. जिससे वह बेहद खुश है. जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने किसको वोट दिया है तो शमीम ने इसका जवाब नहीं दिया लेकिन शमीम ने कहा कि उसने शिक्षा और विकास के मुददे पर वोट किया है. शमीम में भारत की तारीफ करते हुए आगे कहा कि उन्हें यहां पर बहुत अच्छा लगता है. जितना अमन और सकून भारत में है उतना तो उनके मुल्क पाकिस्तान में भी नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें