यूपी सरकार का फैसला, पांच करोड़ से हस्तिनापुर में बनेगा तेंदुआ रेस्क्यू केंद्र

Smart News Team, Last updated: 10/02/2021 01:29 PM IST
  • मेरठ के किठौर क्षेत्र में गत दिनों अचानक तेंदुए घुसने के बाद अब प्रदेश सरकार ने तेंदुए के बचाव और उनके रख-रखाव को लेकर तेंदुआ रेस्क्यू केंद्र बनाने को मंजूरी दे दी है.
फाइल फोटो

मेरठ. मेरठ के किठौर क्षेत्र में अचानक कुछ तेंदुए घुस आए थे, जिनकों पकड़ने की कवायद गांववालों की शिकायत पर ही शुरू कर दी गई थी. हालांकि, अब प्रदेश सरकार ने तेंदुए के बचाव और उनके रख-रखाव को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है. इसके तहत हस्तिनापुर में पांच करोड़ रुपये की लागत से तेंदुआ रेस्क्यू केंद्र बनेगा. इस केंद्र में सहारनपुर से अलीगढ़ तक सात जिलों में पकड़े गए तेंदुओं को रखा जाएगा. हालांकि, इलाज करने के बाद दोबारा जंगल में छोड़ दिया जाएगा.

इस मामले को लेकर वन संरक्षक गंगा प्रसाद ने बताया कि प्रदेश सरकार ने मेरठ, पीलीभीत, चित्रकूट, सोहागीबरवा और हस्तिनापुर में नया रेस्क्यू सेंटर बनाने की स्वीकृति दी है. मेरठ समेत पांच जिलों में 2073 वर्ग किमी. क्षेत्रफल से गुजरने वाली हस्तिनापुर वाइल्डलाइफ सेंक्चुरी से हर साल तेंदुए भटककर मानव बस्तियों में पहुंच जाते हैं. इस बेल्ट में बिजनौर में सर्वाधिक तेंदुए हैं. तेंदुओं को ट्रैंकुलाइज कर पकड़ने के दौरान कई बार इनके पंजे बुरी तरह जख्मी हो जाते हैं. रेस्क्यू के दौरान घायल हुए तेंदुओं को चिड़ियाघरों में भेजा गया है. वन विभाग का प्रयास है कि तेंदुओं को सुरक्षित तरीके से जंगल में भेजा जाए.

किसान आंदोलन का जल्द निकलेगा समाधान: डॉ संजीव बालियान

बता दें, इससे पहले आगरा में भालू का रेस्क्यू सेंटर बनाया गया था. विभागीय रिपोर्ट बताती है कि प्रशिक्षित स्टाफ, ट्रैंकुलाइजिंग गन, बड़ा पिंजरा और पशु डाक्टरों की भी नियुक्ति होगी. वहीं, हाल ही में किठौर के फतेहपुर इलाके में भी तेंदुए की दहशत फैल गई थी, जिसको लेकर ग्रामीण काफी डरे हुए थे. हालांकि, वन विभाग की सतर्कता के बाद भी उन्हें पकड़ा नहीं जा सका था. डीएफओ राजेश कुमार का कहना कि पिछले दो दिन से तेंदुआ फतेहपुर के जंगल में नहीं दिखा है, लेकिन यह नहीं कहा जा सकता तेंदुआ चला गया. वन विभाग के कर्मचारी पिंजरे के साथ तेंदुए को पकड़ने के लिए तैनात हैं. आपरेशन जारी रहेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें