UP पर्यावरण मूल्यांकन प्राधिकरण ने गंगा एक्सप्रेस-वे प्रोजेक्ट को दी पर्यावरण मंजूरी

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sun, 21st Nov 2021, 5:07 PM IST
  • योगी सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना गंगा एक्सप्रेस-वे को राज्य स्तरीय पर्यावरण मूल्यांकन प्राधिकरण की तरफ से शनिवार को पर्यावरण मंजूरी मिल गई है. इस एक्सप्रेस-वे की अनुमानित लागत 36,230 करोड़ रुपये बताई जा रही है. जिसकी कु लंबाई 594 किलोमीटर है. यह एक्सप्रेस-वे मेरठ से शुरू होकर प्रयागराज तक जाएगी.
प्रतीकात्मक फोटो

मेरठ. उत्तर प्रदेश में मेरठ से प्रयागराज तक बनने जा रहे गंगा एक्सप्रेस-वे की तैयारियां तेज हो गई है. यह एक्सप्रेस-वे नेशनल हाईवे संख्या 334 मेरठ-बुलंदशहर रोड से शुरू होकर नेशनल हाईवे संख्या 19 प्रयागराज बाईपास पर जाकर मिलेगी. शनिवार को राज्य स्तरीय पर्यावरण मूल्यांकन प्राधिकरण ने गंगा एक्सप्रेस-वे प्रोजेक्ट के लिए पर्यावरण मंजूरी दे दी है. बता दें कि इस तरह के प्रोजेक्ट काम की शुरूआत करने से पहले भारत सरकार के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की 2006 अधिसूचना के तहत पर्यावरण मंजूरी लेना अनिवार्य किया गया है. इस पर यूपी एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मंत्रालय के 2006 की अधिसूचना नियमों के तहत UPEIDA के लिए यूपी द्वारा मंजूरी ले ली गई है.

UPEIDA के मुताबिक, गंगा एक्सप्रेस-वे प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत 36,230 करोड़ रुपये है. इसके आलावा इस प्रोजेक्ट की शुरुआत पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) मॉडल के तहत की जा रही है. और इस एक्सप्रेस-वे के लिए पहले से ही टेंडर (निविदा) प्रक्रिया में तेजी अपनाई गई है.

CM योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट गंगा एक्सप्रेसवे का रास्ता साफ, पर्यावरण मंत्रालय से मिली मंजूरी

बता दें कि योगी आदित्यनाथ सरकार के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में से एक अहम गंगा एक्सप्रेस-वे प्रोजेक्ट है. जिसकी कुल लंबाई 594 किलोमीटर होगी. यह एक्सप्रेस-वे मेरठ के बिजौली गांव से मेरठ-बुलंदशहर रोड से शुरू होकर प्रयागराज के जुडापुर दांडू गांव में प्रयागराज बाईपास पर समाप्त होगी. गंगा एक्सप्रेस-वे कुल 12 जिलों से होकर गुजरेगी. जिसमें यूपी का मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ और प्रयागराज जिला शामिल हैं. यह एक्सप्रेस-वे जिन जिलों से होकर गुजर रही है आने वाले दिनों में वह जिले भी किसी तरह से विकास से अछूते नहीं रह पाएंगे.

इस एक्सप्रेस-वे को लेकर UPEIDA ने बताया कि यह 6 लेन एक्सप्रेस-वे होगा जो 140 नदियों और जल निकायों से होकर गुजर रहा है. इस प्रोजेक्ट के लिए भूमि अधिग्रहण का काम पहले से ही चल रहा है. मिली जानकारी के मुताबिक भूमि अधिग्रहण का काम भी लगभग 94 प्रतिशत पूरा हो चुका है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें