मेरठ: बिजली चोरी की खबर पर विभाग ने सदर क्षेत्र में की छापेमारी, काटे कनेक्शन

Smart News Team, Last updated: 11/09/2020 02:07 PM IST
  • शुक्रवार को सुबह के अंधेरे में मेरठ के सदर क्षेत्र में बिजली विभाग ने छापेमारी की. इस दौरान 1 लाख रुपये से ज्यादा बकाया वाले चार लोगों के बिजली कनेक्शन काट दिए गए और उन आठ लोगों के खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है जो कि बिजली चोरी में पकड़े गए है. 
मेरठ: बिजली चोरी की खबर पर विभाग ने सदर क्षेत्र में की छापेमारी, काटे कनेक्शन

मेरठ. उत्तर प्रदेश सरकार में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के निर्देश के बाद बिजली चोरी को रोकने और लाॅइन लाॅस कम करने के लिए अभियान शुरू कर दिया गया है. इसी को देखते हुए शुक्रवार को मेरठ के सदर क्षेत्र में सुबह- सुबह बिजली विभाग की टीम और विजिलेंस टीम ने छापेमारी की और इसके लिए सुबह के अंधेरे का समय चुना गया ताकि किसी को खबर न लग सके. इस दौरान आठ लोगों के यहां बिजली की चोरी पकड़ी गयी और इन सभी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवा दी गई है. 

इसके साथ ही उन चार लोगों लोगों के बिजली कनेक्शन भी काट दिए गए है जिन पर 1 लाख रुपये से अधिक का बकाया था. यह काम विद्युत नगरीय वितरण खंड -2 के अधिशासी अभियंता सोनू कुमार के नेतृत्व में सुबह-सुबह बिजली चेकिंग का अभियान चलाया गया. सोतीगंज, भूसा मंडी में चेकिंग अभियान अवर अभियंता आर के कुशवाहा और सत्यप्रकाश की टीम ने साथ में मिलकर किया. 

मेरठ ज्वैलर व्यापारी हत्या: शनिवार को जागृति विहार -शास्त्रीनगर के बाजार बंद

सुबह के अंधेरे में की गई छापेमारी से आठ लोगों के यहां बिजली की चोरी पकड़ी गई और इन सभी के खिलाफ बिजली चोरी से संबंधित मामलों में इनके खिलाफ रिपोर्ट कर दी गई है. अधिशासी अभियंता सोनू ने कहा कि अब जिनका भी एक लाख से ज्यादा का बिल बकाया है उनके खिलाफ भी अभियान चलाया जा रहा है. इसी को मद्देनजर रखते हुए छापेमारी के दौरान ऐसे ही चार लोगों का बिजली कनेक्शन काट दिया गया है. 

लखनऊ: यूपी सरकार का फैसला 21 सितंबर से प्रदेश में नहीं खोले जाएंगे स्कूल

उनका यह भी कहना है बिजली चोरी करने वालों के खिलाफ भी आए दिन कार्रवाई होगी. मेरठ शहर के अधिक्षण अभियंता अशोक कुमार सिंह ने शहर में पहचाने 30 सबसे हाईलाइन लॉस फीडरों पर कार्रवाई की बात कहीं है और बोला कि बिजली लाइन लॉस को दस फीसदी से नीचे लाने के लिए 10 महीने का समय तय किया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें