दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर लोगों को हो रही ये परेशानी, आप भी रखें ध्यान

Smart News Team, Last updated: 07/04/2021 12:31 PM IST
  • दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे को 1 अप्रैल 2021 से आम जनता के लिए शुरू कर दिया. एक्सप्रेस वे शुरू होने के बाद यात्रियों को नीलगाय के झुंड आदि से परेशानियो का सामना करना पड़ रहा है. एनएचएआई इसके लिए ठोस कदम उठाने की तैयारी में जुट गया है.
दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर यात्रियों को हो रही परेशानी.( सांकेतिक फोटो )

मेरठ: दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर 1 अप्रैल 2021 से वाहन फर्राटा भरने लगे हैं. केंद्र सरकार ने आम जनता के लिए एक्सप्रेस वे खोल दिया. एक्सप्रेस वे के शुरू होने के बाद दिल्ली से मेरठ का सफर महज 45 मिनट में पूरा हो सकेगा, जिसे पहले पूरा करने के लिए 2 से ढाई घंटे का समय लगता था. एनएचएआई (NHAI) ने एक्सप्रेसवे पर वाहन चलाने के लिए 100 किमी प्रति घंटे की गति निर्धारित की है, लेकिन लोग निर्धारित गति से तेज वाहन चला रहे है. यह स्पीड यात्रियों के नुकसान का कारण भी बन रही है.

एक्सप्रेस वे पर आ रही दुर्घटना की शिकायते

मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे शुरू होने के बाद दुर्घटना के मामले लगातार सामने आ रहे है. अभी रोड़ पर नीलगायों का झुंड आ जाता है, तो कभी कोई और परेशानी होने लगती है. लोगों ने बताया है कि परतापुर, मोदीनगर और मुरादनगर क्षेत्र में एक्सप्रेस वे खेती होती है जहां नीलगायों का झुंड रोड़ पर आ जाता है. लोगों ने शिकायत की है कि एक्सप्रेस वे की उंचाई कम है जिसके कारण ऐसा होता है. अगर आप एक्सप्रेस वे से यात्रा कर रहे है तो सावधान रहे.

यूनिफॉर्म में ही करनी होगी ऑनलाइन क्लास अटेंड, कक्षा जैसा माहौल बनाने की कोशिश

एनएचएआई के परियोजना निदेशक मुदित गर्ग ने बताया कि वाहन चालकों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है. दुर्घटना आशंका वाले क्षेत्र में चार से पांच फीट की दीवार बनाई जा रही है. इसके बाद भी कोई दिक्कत होगी तो उसी के हिसाब से सुधार करा लिया जाएगा. साथ ही मुदित गर्ग ने कहा, कि परतापुर इंटरचेंज पर गलत दिशा में वाहन आने का सिलसिला अभी भी जारी है. एनएचएआई इसके सुधार के लिए कड़े उठाने की तैयारी कर रहा है. साथ ही इस स्थान पर ट्रैफिक पुलिस को तैनात किया जाएगा.

रमजान में बिजली आपूर्ति, सफाई और शराब की दुकानें बंद कराने को लेकर DM को ज्ञापन

रमजान में बिजली आपूर्ति, सफाई और शराब की दुकानें बंद कराने को लेकर DM को ज्ञापन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें