शहर में अब 10 जगहों पर होगी वाहनों की चेकिंग, हादसों की वजह से लिया फैसला

Smart News Team, Last updated: 06/10/2020 08:12 PM IST
  • लगातार मेरठ में हो रहे हादसों के चलते ट्रैफिक पुलिस ने शहर के 10 संभावित स्थानों पर वाहन चेकिंग यह जाने का फैसला लिया है. मेरठ कैंट में शनिवार को सेना के ट्रक से कुचल कर दो लोगों की मौत हो गई थी जिसके बाद पुलिस ने ट्रैफिक नियमों की कड़ाई से पालन कराए जाने को लेकर वाहन चेकिंग का अभियान शुरू किया है.
मेरठ शहर के अलग-अलग स्थानों पर वाहन चेकिंग किए जाने का फैसला

मेरठ। मेरठ में लगातार हो रहे सड़क दुर्घटना के चलते ट्रैफिक पुलिस ने शहर के अलग-अलग स्थानों पर वाहन चेकिंग किए जाने का फैसला लिया है. मेरठ कैंट पुलिस अब शहर के 10 चुनिंदा स्थानों पर वाहन चेकिंग करेगी. इससे दुर्घटना को कम किए जाने की संभावना जताई जा रही है. शहर में पहले ऐसे सिर्फ 6 पॉइंट ही थे. जहां वाहनों की चेकिंग होती थी लेकिन इन 6 पॉइंट पर भी कभी कभार ही वाहनों की चेकिंग की जाती थी. आए दिन तेज रफ्तार की गाड़ी की चपेट में लोग आ जाते थे जिससे उनकी मौत हो जाती थी. लगातार हो रही दुर्घटनाओं के चलते ही पुलिस ने सभी 10 पॉइंट पर सख्ती से वाहनों की चेकिंग किए जाने का फैसला लिया है.

बता दें कि शनिवार को मेरठ कैंट में सेना के ट्रक से कुचलकर दो लोगों की मौत हो गई थी जिसके बाद गुस्साई भीड़ ने जमकर बवाल काटा था. पुलिस के काफी मान मनौवल के बाद मृतक के परिवार वाले माने. इसके बाद ट्रैफिक पुलिस द्वारा वाहनों की लगातार जांच किए जाने के निर्देश दे दिए.

यूपी: डिप्टी सीएम ने व्यापारियों की समस्याओं के हल के लिए जारी किया हेल्पलाइन

चालक के बिना थाने पहुंचे ही पुलिस ने दिया 41ए का नोटिस

शनिवार को सेना के ट्रक से कुचलकर दो लोगों की मौत हो गई थी. उसका चालक सैनिक अस्पताल से अटैच था. पुलिस का दावा है कि हादसे के बाद ट्रक छोड़कर चालक निकल गया था. हादसे में जमानती धाराओं में कार्रवाई हुई है

इसलिए चालक को 41ए का नोटिस दिया गया है, ताकि वह कोर्ट से अपनी जमानत करा लें। पुलिस ट्रक को थाने ले आई थी. ट्रक की थाने में मौजूदगी दर्शाने के बाद सेना के सुपुर्द कर दिया था. उसके बाद सेना ने ट्रक चालक के बारे में जानकारी दी. एसओ विजय गुप्ता ने बताया कि चालक का नाम तेलबू नरेश है. उसे थाने से 41ए सीआरपीसी में नोटिस जारी कर दिया है. यह अपराध जमानती है. ऐसे में आरोप पत्र लगने के बाद चालक को कोर्ट से जमानत करानी पड़ेगी. सेना अपने स्तर पर चालक के खिलाफ विभागीय कार्रवाई कर रही है.

कैंट में ये हैं चेकिंग प्वाइंट

टैंक चौराहा, आरवीसी कट, शिवाजी चौक, जादूगर चौराहा, सब एरिया कैंटीन, रोहटा रोड रेलवे क्रासिंग, रामताल वाटिका, रैम कैंटीन, नैन्सी चौराहा और भगत चौक

304ए आइपीसी : हादसे में मौत, तीन साल तक की सजा का प्रावधान

279 आइपीसी : लापरवाही से गाड़ी चलाना, छह माह की सजा

क्या है 41ए : जिस मुकदमे में सात साल तक की सजा का प्रावधान हो, विवेचक को विवेचना के दौरान विश्वास हो जाए कि अभियुक्त पुलिस या अदालत के बुलाने पर पेश हो जाएगा. साक्ष्य को नष्ट नहीं करेगा तब विवेचक 41ए सीआरपीसी के नोटिस पर आरोपित को छोड़ सकता है. आरोप पत्र कोर्ट में जाने के बाद आरोपित को न्यायलय से जमानत करानी पड़ेगी.

इनका कहना है

हादसे के बाद कैंट एरिया में चेकिंग प्वाइंट बढ़ाकर दस कर दिए गए हैं. पहले सिर्फ छह प्वाइंट थे. सभी टीमों को तेज रफ्तार वाहनों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. सेना के अफसरों को भी वाहनों की गति नियमानुसार चलाने के लिए पत्र जारी किया गया है. दुर्घटना के मामले में चालक के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जा रही है. (अजय साहनी, एसएसपी)

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें