मेरठ: पीने के पानी में मिले कीड़े, लोगों का हंगामा, बोले-यह बीमार बना देंगे

Smart News Team, Last updated: Sun, 28th Feb 2021, 12:42 PM IST
  • मेरठ के पुराना ब्लॉक शास्त्रीनगर वार्ड 61 में स्थानीय लोगों ने पेयजल के दूषित होने को लेकर हंगामा कर दिया. उनका कहना है कि पेयजलापूर्ति के माध्यम से उनके घरों में मिलने वाले पानी में कीड़े आ रहे है. जिसे लेकर नगर निगम अधिकारियों के पास शिकायत भी की गयी. लेकिन अभी तक इस मामले में कोई सुनवाई नहीं हुई.
यजलापूर्ति के जरिए मिलने वाला पानी दूषित, नगर निगम ने नहीं की कोई कार्रवाई.

मेरठ. मेरठ के पुराना ब्लॉक शास्त्रीनगर वार्ड 61 में पेयजल में कीड़े निकल आने को लेकर हंगामा हो गया. इस इलाके में स्थानीय लोगों के पेयजलापूर्ति के जरिए जो पानी उनके घरों में उपलब्ध होता था, वह बीते दिन कीड़ेयुक्त एवं दूषित देखने का मिला. जिसके बाद लोगों ने इस मामले की शिकायत नगर निगम के अधिकारियों से की. लेकिन उनकी शिकायत पर किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की. इस मामले में स्थानीय लोगों का कहना है कि इस दूषित पानी का सेवन लोगों को बीमार बना देगा. लेकिन नगर निगम के अफसर इस गंभीर मसले पर बिल्कुल ध्यान नहीं दे रहे है.

इस संदर्भ में कांग्रेस के वार्ड 61 के अध्यक्ष अमित गुप्ता का कहना है कि पुराना के ब्लॉक शास्त्रीनगर वार्ड 61 के निवासियों के घरों में सुबह पीने के पानी के साथ कीड़े निकल आये. जिसे लेकर स्थानीय लोगों ने नगर निगम अधिकारियों के पास मामले की शिकायत की. इस शिकायत को लेकर अधिकारियों ने कोई गंभीरता नहीं दिखाई. जिसके कारण लोग आक्रोश में आ गये और इस मामले को लेकर जमकर हंगामा हो गया. 

मेरठ के क्रांतिधरा में किसान महापंचायत का आयोजन, अरविंद केजरीवाल करेंगे संबोधित

स्थानीय लोगों के लिए पेयजल आपूर्ति के माध्यम से मिलने वाले इस पानी से उनके घरों में पानी की उपलब्धता पूरी होती है. लेकिन जब यही पानी दूषित होगा, तो उन्हें पानी को लेकर अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा. दूसरी तरफ अगर इस पानी को लोग इस्तेमाल करते है तो उनके इससे बीमार होने का खतरा है. इस कारण नगर निगम को जल्द ही इस पर सुनवाई करनी चाहिए. लेकिन अभी तक किसी अफसर ने इस मामले की गंभीरता पर कोई ध्यान नहीं दिया है. 

UP के किसानों को डिजिटल करेगी योगी सरकार, घर बैठे मिलेगी फसल और मौसम की जानकारी 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें