कौन हैं मुस्लिम उलेमाओं में बड़ा रुतबा रखने वाले मौलाना कलीम सिद्दीकी, देवंबद से क्या है कनेक्शन ?

Smart News Team, Last updated: Wed, 22nd Sep 2021, 8:43 PM IST
  • यूपी एटीएस ने धर्मांतरण मामले में वेस्ट यूपी के बड़े मुस्लिम विद्वान, देश-विदेश में प्रसिद्ध मौलाना कलीम सिद्दीकी को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तारी के बाद एटीएस ने कई खुलासे करते हुए मौलाना पर विदेशों से फंडिंग से लेकर लोगों को भ्रम में डालकर धर्म परिवर्तन कराने जैसे बड़े आरोप भी लगाए हैं. जानिए आखिर कौन हैं मौलाना कलीम सिद्दीकी और मुस्लिमों में क्या है उनका रुतबा. 
फोटो- मौलाना कलीम सिद्दीकी

मेरठ. उत्तर प्रदेश एटीएस ने धर्मांतरण मामले में देश के मशहूर और वेस्ट यूपी में खासतौर पर मुस्लिम समुदाय पर बड़ा प्रभाव रखने वाले मौलाना कलीम सिद्दीकी को गिरफ्तार कर लिया है. मौलाना सिद्दीकी को लेकर एटीएस का कहना है कि वे दारुल उलूम देवबंद और बहरीन समेत कई देशों से हवाले के जरिए आ रहे पैसे से अलग-अलग जगहों पर बने मदरसों को फंड करते थे. एटीएस की मानें तो ग्लोबल पीस सेंटर के अध्यक्ष मौलाना कलीम इन मदरसों की आड़ में अवैध धर्मांतरण के कार्यों को अंजाम देते थे. साथ ही एटीएस का आरोप है कि मौलाना लोगों को बहला-फुसला कर, उन्हें मौत के बाद की जिंदगी का भ्रम देकर उनका धर्म परिवर्तन करवाते थे. आइए जानते हैं आखिर कौन हैं मौलाना कलीम सिद्दीकी.

देवबंद फिरके के मौलाना कलीम सिद्दीकी का जन्म पश्चिमी यूपी के मुजफ्फरनगर जिले के फूलत गांव में हुआ. जहां आज उनका एक बड़ा मदरसा भी है. फूलत में ही उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा ली जिसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए मेरठ जिले की ओर रुख किया. मेरठ में एक कॉलेज से उन्होंने बीएससी की पढ़ाई की. इसके साथ-साथ वे इस्लामिक शिक्षा भी ग्रहण करते रहे. साल 1987 से वे अपने गांव फूलत में बने मदरसे जामिया इमाम वालीउल्लाह इस्लामिया का संचालन कर रहे हैं. फिलहाल उनके मदरसे में करीब 300 से ज्यादा छात्र हैं जो कोरोना काल में ऑनलाइन माध्यम से पढ़ रहे हैं.

जन्नत का लालच और जहन्नुम का खौफ दिखाकर धर्म परिवर्तन कराते थे मौलाना कलीम सिद्दीकी

मौलाना सिद्दीकी का गांव मुजफ्फरनगर के खतौली क्षेत्र में है लेकिन वे पिछले 15 सालों से अपने परिवार के साथ दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में रहते हैं. हालांकि, बड़ा बेटा उनका आज भी गांव फूलत में दूध का कारोबार करता है जबकि छोटा बेटा दिल्ली में परिवार के साथ रहता है. मौलाना की हस्ती ऐसी है कि सिर्फ देश ही नहीं विदेशों में भी उनकी काफी पूछ है और किसी न किसी कार्यक्रम के लिए उन्हें बुलावा आता रहता है. हाल ही में मौलाना सिद्दीकी मोहन भागवत के एक कार्यक्रम में भी शामिल हुए थे. जहां उनकी भागवत से मुलाकात भी हुई थी.

मौलाना सिद्दीकी का कैसे आया धर्मांतरण में नाम

दरअसल जून में यूपी एटीएस ने धर्मांतरण के मामले में उमर गौतम और जहांगीर कासमी को अरेस्ट किया था. आरोप था कि ये लोग धर्मांतरण का बड़ा रैकेट चला रहे थे. खबरों की मानें तो खुद गौतम भी धर्म बदलकर मुस्लिम बना था. इन दोनों से यूपी एटीएस जब पूछताछ कर रही थी उस समय मौलाना कलीम सिद्दीकी का नाम सामने आया और उसी समय से वे एटीएस के संदिग्धों में शामिल हो गए थे. सबूतों को मजबूत करने के बाद एटीएस ने मेरठ के लिसाड़ी गेट इलाके से पहले मौलाना को हिरासत में लिया फिर थोड़ी पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था.

सना खान का निकाह कराने वाले मौलाना कलीम सिद्दीकी यूपी धर्मांतरण मामले में अरेस्ट

बॉलीवुड एक्ट्रेस सना खान से भी कनेक्शन

बॉलीवुड में अचानक करियर को छोड़कर इस्लामिक राह पर चलने वाली सना खान की शादी एक मुफ्ती से हुई. कहा जाता है कि उनकी शादी में निकाह मौलाना कलीम सिद्दीकी ने ही पढ़ाया था. और उसके बाद से ही सना खान ने फिल्मी दुनिया से पूरी तरह दूरी बना ली थी.

 

 

 

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें