गांवों में बिजली राजस्व में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी महिलाओं के कारण, हुईं सम्मानित

Smart News Team, Last updated: Sun, 20th Sep 2020, 7:24 AM IST
  • महिला सशक्तिकरण का मिशाल बनते हुए स्वयं सहायत समूहों की महिला सदस्यों ने पश्चिमांचल के विभिन्न गांवों में उपभोक्ताओं के बिजली बिल उनके घर पर जमा करके राजस्व वसूल कर रिकॉर्ड कायम कर दिया है.
गांव में रिकॉर्ड बिजली बिल जमा करा राजस्व बढ़ाने वाली महिलाएं हुई सम्मानित

मेरठ. पश्चिमांचल में शुरू हुई आत्मनिर्भरता और महिला सशक्तिकरण के लिए राज्य आजीविका मिशन की अनूठी पहल में पीवीवीएनएल पूरे प्रदेश में एक मिशाल बन गया है. स्वयं सहायत समूहों की महिला सदस्यों ने पश्चिमांचल के अलग-अलग गांवों में उपभोक्ताओं के बिजली बिल उनके घर पर जमा करके राजस्व वसूल कर रिकॉर्ड कायम कर दिया है. शनिवार को एमडी अरविंद मल्लप्पा बंगारी ने राजस्व वसूली में बाजी मारने वाली बागपत, गाजियाबाद, बुलंदशहर और बिजनौर की स्वयं सहायता समूहों की सखियों को सम्मानित किया. इस दौरान महिलाओं के खिले चेहरे देखने लायक थे.

CCS यूनिवर्सिटी में स्नातक में प्रवेश को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 21 सितंबर से बंद

ऊर्जा भवन में शनिवार को स्वयं सहायता समूहों की सदस्याओं के सम्मान और प्रशिक्षण के लिए कार्यक्रम आयोजित किया गया. इसमें एमडी पीवीवीएनएल अरविंद मल्लप्पा बंगारी, निदेशक वाणिज्य आईपी सिंह, मुख्य अभियंता वाणिज्य संजय आनंद जैन, मुख्य अभियंता वाणिज्य राजीव कुमार, अधीक्षण अभियंता मुख्यालय राजेंद्र भान सिंह, अधिशासी अभियंता मुख्यालय सुरेश चंद्र, अवर अभियंता नरेंद्र कुमार शामिल हुए.

मेरठ: खुशखबरी! जल्द खुलेंगे चार और नए सीएनजी पंप

राजस्व वसूली करके रिकॉर्ड बनाने वाली गाजियाबाद की ब्रिजेश देवी और पूजा कुशवाहा, बागपत की ऊषा और वर्षा, बुलंदशहर की गीता और मिथलेश तथा बिजनौर की रिहाना खातून और रीना को सम्मानित किया गया. इस दौरान एमडी ने कहा कि बिलिंग नेटवर्क बढ़ाते हुए पश्चिमांचल में स्वयं सहायता समूहों को शामिल किया ताकि गांवों में बिजली बिल उपभोक्ता के घर पर ही जमा हो सके. पश्चिमांचल के 14 जिलों के लिए 13 एजेंसियों का गठन हुआ है. प्रशिक्षण कार्यक्रम में निदेशक वाणिज्य आईपी सिंह ने महिलाओं को जानकारियां दी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें