4 माह से गायब युवक के परिजनों का कमिश्नरी पर घेराव, पुलिस पर लापरवाही का आरोप

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 07:58 PM IST
शहर के डाबका गांव के युवक को गायब हुए चार महीने हो गए हैं. जिसे लेकर परिजन बेहद दुखी हैं और उन्हें भय भी सता रहा है. इस केस में गांव की पुलिस ने अब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया है, ऐसा परिजन का कहना है. जिसके चलते आज उन्होंने कमिश्नरी का घेराव किया था. 
लापता सुमित के परिजन कमिश्नरी का घेराव करने पहुंचे थे. 

मेरठ: पिछले चार महीनों से गायब युवक के परिवार वालों ने गंगानगर पुलिस द्वारा बरामदगी ना कराए जाने पर कमिश्नरी में जमकर प्रदर्शन किया. वहीं, परिवार वालों की मांग थी की युवक को जल्द से जल्द पुलिस द्वारा खोजा जाए. आपको बता दें कि युवक बीते 4 महीने से लापता है. जिसको लेकर युवक के परिजन बेहद परेशान हैं. उनका कहना है बेटा उन्हें वापस चाहिए किसी भी हालत में तभी उन्हें संतोष मिलेगा.

लापता युवक का नाम सुमित है और वो डाबका गांव का रहने वाला है. इस मामले को लेकर परिजन का आरोप है कि पुलिस लापरवाही कर रही है. इस सिलसिले में लगातार परिवाल वालों का कहना है कि युवक की सकुशल बरामदगी की पुलिस से गुहार लगाई और उसकी गुमशुदगी भी दर्ज करा दी थी. पुलिस कुछ भी ऐसा नहीं कर रही है जिस पर परिवार को थोड़ी आस जगे. जिसके चलते परिवार के सदस्यों को लगातार इस बात का भय सता रहा है कि कहीं उसके साथ कोई अनहोनी ना घट जाए.

पत्नी को तलाक बिना प्रेमिका संग लिव इन में रह रहा UP पुलिस का दारोगा होगा बर्खास्त!

इस प्रकरण में लापता सुमित के परिजन आज कमिश्नरी पहुंचे थे और उसकी तालाश के लिए गुहार लगाई. साथ ही उन्होंने बताया कि गंगानगर पुलिस लापरवाही बरत रही है. जिसके चलते गंगा नगर थाने की पुलिस के विरुद्ध कार्रवाई हो, क्योंकि वे कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं. इससे पहले कुछ छात्रों ने भी सुमित की गिरफ्तारी को लेकर डीएम और एसएसपी दफ्तर का घेराव कर जमकर हंगामा किया था. सबसे बड़ी बात इस केस में जो है वो पुलिस की कार्रवाई को लेकर सामने आ रही है. असल में पुलिस उसे अभी तक ढूढ़ नहीं सकी है. जिसे लेकर परिजन के मन को ठंडक नहीं मिल सकी है.

नशे में धुत्त पति ने पत्नी को बेरहमी से पीटा, दांतों से जुबान काट ली, अरेस्ट

लखनऊ में आरपीएफ दरोगा की हत्या, खून से लथपथ शव के पास सर्विस रिवॉल्वर भी बरामद

उत्तराखंड CM से मिले किसान नेता, समस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें