कोरोना के चलते छुट्टी में बच्चे भूल गए लिखना, परीक्षा सिर पर और समस्या विकराल

Smart News Team, Last updated: Tue, 27th Oct 2020, 10:38 AM IST
  • वैश्विक स्तर के कोरोना महामारी काल में औपचारिकतावश शुरू की गई ऑनलाइन पढ़ाई ने जहां छात्र-छात्राओं को शिक्षा से जोड़ें रखने का काम किया है तो वही ऑनलाइन पढ़ाई पढ़ाई ने छात्र-छात्राओं की लेखन गति को भी कम करने का काम किया है. 
छात्रों के लिखने की गति हुई धीमी अध्यापकों के लिए बढ़ रही समस्या

मेरठ . अनलॉक 6.0 में शासन के निर्देश पर स्कूलों में शुरू कराई गई ऑफलाइन शिक्षा के दौरान छात्रों में लिखने की गति में कमी देखने को मिल रही है. लिखने की गति में आई कमी के चलते छात्र-छात्राओं के लिए विकराल समस्या तो बन ही गई है बल्कि टीचर भी इससे चिंतित दिखाई दे रहे हैं. टीचरों की माने तो ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान छात्रों को लिखने के लिए कम काम देने के चलते उनकी 50 प्रतिशत तक लिखने की गति कम हुई है. ऑफलाइन पढ़ाई के दौरान जहां छात्र-छात्राएं औसतन एक पेज 5 से 7 मिनट के बीच लिख लिया करते थे.

 वही अनलॉक डाउन के दौरान खोले गए स्कूलों में शुरू हुई ऑफलाइन पढ़ाई के दौरान एक पेज लिखने में छात्र 10 से 12 मिनट का समय ले रहे हैं. लेखन क्षमता की यह स्थिति छात्र छात्राओं के लिए बोर्ड परीक्षा के दौरान बड़ी समस्या उभर कर सामने आ सकती है.गौरतलब हो कि कोरोना महामारी काल में शासन की ओर से ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था लागू की गई थी. इस व्यवस्था के तहत छात्र छात्राओं को इंटरनेट के माध्यम से शिक्षा से जोड़ा रखा गया था. 

मेरठ: दो हफ्ते बाद कब्र से निकाला गया शव, पत्नी और उसके प्रेमी का सच बताएगी लाश

ऑनलाइन पढ़ाई में ज्यादातर छात्र छात्राओं को कम लिखने वाले विषय जैसे गणित भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान शरीके विषय ही पढ़ाए गए थे जबकि इतिहास भूगोल सामाजिक विज्ञान जीव विज्ञान वनस्पति विज्ञान नागरिक शास्त्र जैसे अधिक लेखन के थ्योरी वाले विषयों पर न के बराबर ही पढ़ाई कराई गई थी. इसके चलते छात्र-छात्राओं की पिछले 7 माह से झूठी लेखन क्षमता में गिरावट आई है.

दीवान पब्लिक स्कूल मेरठ के प्रधानाध्यापक एके दुबे बताते हैं कि ऑनलाइन पढ़ाई ने छात्रों की लेखन गति को कम किया है. परीक्षा के दौरान लेखन गति आवे ना आए इसके लिए ना केवल छात्र छात्राओं को बल्कि टीचरों को भी अलग से क्लास लगा कर लेखन गति बढ़ाए जाने पर जोर देने की आवश्यकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें