नवरात्रि के सातवें दिन करें मां कालरात्रि की आरती और पढ़ें ये मंत्र, बरसेगी कृपा

Anuradha Raj, Last updated: Mon, 11th Oct 2021, 7:57 PM IST
  • नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाएगी. ऐसे में अगर आप विधि -विधान से पूजा अर्चना करके मां की आरती करते हैं, और मंत्र पढ़ते हैं तो आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है.
Navratri 2021

इस साल 2021 में शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 7 अक्टूबर से हुई है, और इसका समापन 14 अक्टूबर को हो जाएगा. 15 अक्टूबर को दशमीं या दशहरा मनाया जाएगा. नवरात्रि के इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की विधि-विधान से पूजा की जाती है. मालूम हो इस बार नौ नहीं बल्कि आठ ही नवरात्रि है. ऐसे में कल यानी 12 अक्टूबर मंगलवार को सातवां दिन है. नवरात्रि का सातवां दिन कालरात्रि माता को समर्पितो होता है. ऐसे में मां की पूजा करने के बाद उनकी आरती और विशेष मंत्र का जाप आवश्य करें.

मां कालरात्रि का ध्यान-

करालवंदना धोरां मुक्तकेशी चतुर्भुजाम्।

कालरात्रिं करालिंका दिव्यां विद्युतमाला विभूषिताम॥

दिव्यं लौहवज्र खड्ग वामोघो‌र्ध्व कराम्बुजाम्।

अभयं वरदां चैव दक्षिणोध्वाघ: पार्णिकाम् मम॥

महामेघ प्रभां श्यामां तक्षा चैव गर्दभारूढ़ा।

घोरदंश कारालास्यां पीनोन्नत पयोधराम्॥

सुख पप्रसन्न वदना स्मेरान्न सरोरूहाम्।

एवं सचियन्तयेत् कालरात्रिं सर्वकाम् समृद्धिदाम्॥

मां कालरात्रि के मंत्र

ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।

दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तु ते।।

जय त्वं देवि चामुण्डे जय भूतार्तिहारिणि।

जय सर्वगते देवि कालरात्रि नमोस्तु ते।।

मां कालरात्रि की आरती

कालरात्रि जय जय महाकाली

काल के मुंह से बचाने वाली

दुष्ट संहारिणी नाम तुम्हारा

महा चंडी तेरा अवतारा

पृथ्वी और आकाश पर सारा

महाकाली है तेरा पसारा

खंडा खप्पर रखने वाली

दुष्टों का लहू चखने वाली

कलकत्ता स्थान तुम्हारा

सब जगह देखूं तेरा नजारा

सभी देवता सब नर नारी

गावे स्तुति सभी तुम्हारी

रक्तदंता और अन्नपूर्णा

कृपा करे तो कोई भी दु:ख ना

ना कोई चिंता रहे ना बीमारी

ना कोई गम ना संकट भारी

उस पर कभी कष्ट ना आवे

महाकाली मां जिसे बचावे

तू भी 'भक्त' प्रेम से कह

कालरात्रि मां तेरी जय

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें