Govardhan Puja 2021: गोवर्धन पूजा का ये है महत्व, इन मंत्रों का करें जाप, प्रसन्न होंगे भगवान

Priya Gupta, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 4:54 PM IST
  • हिंदू मान्यता के अनुसार, कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा की जाती है. इस पर्व पर गोवर्धन और गाय माता की पूजा-अर्चना करने की परंपरा है.
गोवर्धन पूजा का ये है महत्व

दीवाली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा का त्योहार मनाया जाता है, इस साल गोवर्धन पूजा 5 नवंबर यानी शनिवार को मनाया जाएगा. हिंदू मान्यता के अनुसार, कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा की जाती है. इस पर्व पर गोवर्धन और गाय माता की पूजा-अर्चना करने की परंपरा है. इस पर्व में बर से गोवर्धन पर्वत का चित्र बनाकर गोवर्धन भगवान की पूजा की जाती है.गोवर्धन पूजा का प्रचलन आज से नहीं, बल्कि भगवान कृष्ण के द्वापर युग से चला आ रहा है. द्वापर युग में पहले ब्रजवासी भगवान इंद्र की पूजा किया करते थे.

गोवर्धन पूजा पर्व को अन्नकूट पर्व के नाम से भी जाना जाता है. दीपावली के अगले दिन मनाये जाने वाले इस त्योहार की विशेष छटा ब्रज में देखने को मिलती है. गोवर्धन पूजा में गोधन यानी गायों की पूजा की जाती है. देवी लक्ष्मी जिस प्रकार सुख समृद्धि प्रदान करती हैं उसी प्रकार गौ माता भी अपने दूध से स्वास्थ्य रूपी धन प्रदान करती हैं.

Navratri 2021: नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की करें पूजा, जानें पूजा विधि

मान्यता है कि जब भगवान श्रीकृष्ण ने ब्रजवासियों को मूसलधार वर्षा से बचने के लिए सात दिन तक गोवर्धन पर्वत को अपनी सबसे छोटी उंगली पर उठाकर रखा था तो गोप-गोपिकाएं उसकी छाया में सुखपूर्वक रहे. सातवें दिन भगवान ने गोवर्धन पर्वत को नीचे रखा और हर वर्ष गोवर्धन पूजा करके अन्नकूट उत्सव मनाने की आज्ञा दी. तभी से यह पर्व अन्नकूट के नाम से मनाया जाने लगा. इस दिन गेहूं, चावल जैसे अनाज, बेसन से बनी कढ़ी और पत्ते वाली सब्जियों से बने भोजन को पकाया जाता है और भगवान कृष्ण को अर्पित किया जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें