हाईवे, आईटी पार्क की मिलेगी मेरठवसियो को सौगात, इसी साल पूरे होंगे प्रोजेक्ट

Smart News Team, Last updated: 04/10/2020 08:37 PM IST
  • एक्सप्रेसवे व आईटी पार्क को इसी साल पूरा करने का तय किया लक्ष्य. गंगा एक्सप्रेसवे और मेरठ-गढ़ हाईवे का काम भी हो सकता है शुरू. दिल्ली- मेरठ के बीच चलने वाली रैपिड रेल का काम भी हुआ तेज
प्रतीकात्मक तस्वीर

मेरठ। जनपद मेरठ शहर के चारों ओर हाईवे का जाल बिछाया जा रहा है. दिल्ली से मेरठ की दूरी कम करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं.जल्द ही इनका लाभ शहरवासियों को मिलने लगेगा. दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को छोड़कर अन्य किसी प्रोजेक्ट में अभी कहीं विवाद नहीं है. इस प्रोजेक्ट में किसान एकसमान मुआवजे की मांग को लेकर आंदोलनरत हैं.

आपको बतादें के वर्ष-2020 खत्म होने में सिर्फ 90 दिन बचे हैं. सब कुछ ठीक रहा तो साल के अंत तक मेरठ को एक हाईवे एक एक्सप्रेसवे और आईटी पार्क की सौगात मिल जाएगी. हालांकि ये सभी प्रोजेक्ट निर्माणाधीन हैं इसके अलावा गंगा एक्सप्रेसवे, मेरठ- गढ़ हाईवे का शिलान्यास भी हो सकता है. दिल्ली-मेरठ के बीच चलने वाली रैपिड रेल का काम भी तेज गति से चल रहा है. इसे 2025 में पूरा किया जाना है साथ ही प्रशासन ने जल्द ही इस विवाद को निपटाने का आश्वासन दिया है. दिल्ली से मेरठ की दूरी कम होने से यहां के उद्योगों को रफ्तार मिलेगी.

हाथरस DM के पीड़ित परिवार को धमकाने से भड़के लोग, जयपुर में घर पर कचड़ा फेंका

वहीं आसपास के पर्यटक स्थलों को भी लाभ मिलने के आसार हैं. अभी महाभारतकालीन नगरी हस्तिनापुर पहुंचने के लिए पर्यटकों को सोचना पड़ता है. रास्ता सुगम होने के बाद दिल्ली आने वाले लोग मेरठ का भी रुख करेंगे.चार चरणों में बनाए जा रहे इस प्रोजेक्ट का काम लगभग पूरा है. चौथे चरण में मेरठ से डासना तक का काम करीब 78 प्रतिशत पूरा हो चुका है. किसानों के आंदोलन के कारण काम तेजी से नहीं हो पा रहा है. हालांकि केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इसे दिसंबर-2020 तक पूरा करने का लक्ष्य तय किया है. इसके पूरा होने पर सरायकाले खां से मेरठ तक का सफर एक से डेढ़ घंटे में पूरा हो सकेगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें