कब है ज्येष्ठ पूर्णिमा, पंचांग के अनुसार जानें व्रत का महत्व और शुभ मुहूर्त

Smart News Team, Last updated: Wed, 23rd Jun 2021, 9:21 AM IST
  • हिंदू धर्म में पूर्णिमा व्रत का बेहद ही महत्व हबोता है. इस बार ये व्रत पंचांग के अनुसार 24 जून 2021 यानी गुरुवार को है. इस दिन भगवान विष्णु की पूरा जो भी विधि विधान से करता है उसकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती है.
Jyeshtha Purnima 2021

धर्म कर्म की दृष्टि से ज्येष्ट मास को विश्ष माना जाता है. ऐसे में ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पंचांग के अनुसार 24 जून 2021 गुरुवार को है. जिसे ज्येष्ठ पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है. इस व्रत को लोग बहुत ही ज्यादा पवित्र मानते हैं. भगवान विष्णु की इस दिन विशेष रुप से पूजा अर्चना होती है. इस दिन ऐसा कहा जाता है कि पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए साथ ही दान इत्यादि भी करना चाहिए. लेकिन कोरोना में आप अपने घर में ही जल में गंगा जल मिलाकर स्नान कर सकते हैं. इस व्रत को विधि पूर्वक करने से सारी मनोकामना पूर्ण होती है.

ज्येष्ठ मास का समापन पूर्णिमा की तिथि को हो जाएगा. ज्येष्ठ मास का हिंदू धर्म में बेहद ही महत्व होता है.  इस मास में एकादशी, गंगा दशहरा, वट सावित्री पूजा, शनि जयंती जैसे कई व्रत मनाए जाते हैं. ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत पूर्णिमा तिथि को, रानी दुर्गावती का बलिदान दिवस भी इसी मंथ में मनाया जाता है.

ग्रहों की स्थिति का ज्येष्ठ पूर्णिमा की तिथि में विशेष संयोग बनता हुआ नजर आ रहा है. ग्रहों की स्थिति जानते हैं. 

वृष राशि (Vrish Rashi): बुध और राहु

मिथुन राशि (Vrish Rashi): बुध और राहु

कर्क राशि (Kark Rashi): मंगल और शुक्र

वृश्चिक राशि (Vrishchik Rashi): चंद्रमा और केतु

मकर राशि (Makar Rashi): शनि

कुंभ राशि (Kumb Rashi): गुरु

शुभ मुहूर्त, ज्येष्ठ पूर्णिमा (Date Of Purnima In June 2021)

ज्येष्ठ पूर्णामा व्रत : 24 जून 2021, गुरुवार

पूर्णिमा की तिथि आरंभ : 24 जून, गुरुवार को सुबह 03 बजकर 32 मिनट से

ज्येष्ठ पूर्णिमा का समापन : 25 जून, शुक्रवार को रात्रि 12 बजकर 09 मिनट समाप्त

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें