Karvachauth 2021: करवाचौथ पर चंद्रमा और रोहिणी का शुभ संयोग, जानें पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

Priya Gupta, Last updated: Tue, 19th Oct 2021, 10:57 AM IST
  • करवा चौथ रविवार को पड़ रही है. खास बात ये है कि पांच साल बाद फिर इस करवा चौथ पर नक्षत्र का शुभ योग बन रहा है. करवाचौथ पर रोहिणी नक्षत्र में पूजन के साथ रविवार होने से सूर्य देव का भी व्रती महिलाओं को आशिर्वाद प्राप्त होगा.
करवाचौथ पर चंद्रमा और रोहिणी का शुभ संयोग

करवा चौथ पर इस बार चंद्रमा उदय और रोहिणी नक्षत्र का शुभ संयोग है. करवाचौथ 24 अक्टूबर को है. बाजार में कारोबारियों और महिलाओं में इसकों लेकर खास उत्साह है. ज्योतिषाचार्य डॉ. सुशांतराज के अनुसार, इस बार करवाचौथ पर चंद्रमा रोहिणी नक्षत्र में उदित होगा. धार्मिक दृष्टि से यह नक्षत्र बेहद ही शुभ माना जाता है. इस नक्षत्र के स्वामी चंद्रमा है. इसलिए माना जाता है कि इस नक्षत्र में चंद्रमा दर्शन करने से मनवांछित फल की प्राप्ती होती है.

करवा चौथ रविवार को पड़ रही है. खास बात ये है कि पांच साल बाद फिर इस करवा चौथ पर नक्षत्र का शुभ योग बन रहा है. करवाचौथ पर रोहिणी नक्षत्र में पूजन के साथ रविवार होने से सूर्य देव का भी व्रती महिलाओं को आशिर्वाद प्राप्त होगा.

Valmiki Jayanti 2021: इस बार 20 अक्टूबर को मनाई जाएगी वाल्मीकी जयंती, जानें इससे जुड़ा इतिहास

व्रत की पूजा विधि

सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करें भोजन करें पानी पीएं और गणेश पूजा करके निर्जला व्रत का संकल्प ले, इसके बाद तक न तो कुछ खाना है न ही पीना है. पूजा के लिए शाम के समय एक मिट्टी की वेदी पर सभी देवताओं की स्थापना कर इसमें करवा रखें. एक थाली में धूप,दीप चंदन, रोली सिंदूर रखें और घी का दीपक जलाए. पूजा चांद निकलने के एक घंटे पहले शुरू कर दें. चांद दर्शन कर व्रत खोलें.

करवा चौथ पर बन रहा विशिष्ट संयोग

इस साल करवा चौथ पर एक विशेष संयोग बन हो रहा है. पंचांग के मुताबिक, करवा चौथ का चांद रोहिणी नक्षत्र में निकलेगा. ऐसी धार्मिक मान्यता है कि इस नक्षत्र में व्रत रखना अति शुभ होता है. कहा जाता है कि ऐसे समय में चंद्र दर्शन मनवांछित फल प्रदान करता है. करवा चौथ को यानी 24 अक्टूबर को रात 08 बजकर 07 मिनट पर चांद निकलेगा. इसके साथ ही व्रती महिलाओं को चंद्र दर्शन हो सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें