'दुल्‍ला भट्टी' के बिना अधूरा है लोहड़ी पर्व, लड़कियों को बेचने से जुड़ी है कहानी

Smart News Team, Last updated: Tue, 4th Jan 2022, 10:42 AM IST
  • नए साल की शुरुआत में लोहड़ी सबसे पहला पर्व है, जिसे धूमधाम के साथ मनाया जाता है. हर साल की तरह इस बार भी लोहड़ी का त्योहार 13 जनवरी को पड़ रहा है. इस दिन किसान फसल की अच्छी पैदावार के लिए भगवान से कामना करते हैं. हर साल लोहड़ी के दिन पंजाबी योद्धा दुल्ला भट्टी की कहानी सुनने का महत्व है.
लोहड़ी में दुल्ला भट्टी की कहानी

नए साल 2022 का स्वागत करने के बाद अब लोहड़ी पर्व की तैयारी शुरू हो गई है. मकर संक्रांति से ठीक एक दिन पहले लोहड़ी पर्व मनाया जाता है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार लोहड़ी का त्योहार हर साल पौष मास के आखिरी दिन सूर्यास्त के बाद यानी माघ संक्रांति की पहली रात लोहड़ी मनाई जाती है. हर साल की तरह इस बार भी गुरुवार 13 जनवरी को लोहड़ी मनाई जाएगी.  लोहड़ी के दिन चौराहे पर आग जालकर किसान गेहूं की नई बालियां ,तिल, गुड़ा , गजक, रेवड़ी और मूंगफली अर्पित करते हैं और पूजा की जाती है.

इसके साथ फसल की अच्छी पैदावार और धन धान्य मुनाफे की कामना भगवान से करते हैं. पंजाबी समुदाय के लिए लोहड़ी नए बड़ा उत्सव होता है. भांगड़ा और गिद्दा करते हुए लोहड़ी के मौके पर सर्दियों की विदाई और बसंत ऋतु का आगमन किया जाता है. कुछ जगहों पर लोहड़ी को तिलोड़ी भी कहा जाता है.

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति पर इस पुण्यकाल में दान करने से मिलेगा महापुण्य

लोहड़ी पर दुल्ला भट्टी की कहानी का महत्व

लोहड़ी के दिन अलाव जलाकर इसे चारों ओर सभी भांगड़ा और गिद्दा डांस करते हैं. आग के पास घेरा बनाकर दुल्ला भट्टी की कहानी सुनी जाती है. दुल्ला भट्टी की कहानी के बिना लोहड़ी का त्योहार अधूरा माना जाता है. इसलिए लोहड़ी पर इस कहानी का खास महत्व होता है. कहा जाता है कि, दुल्‍ला भट्टी एक बहादुर पंजाबी योद्धा थे, जिन्‍होंने मुगल काल में लड़कियों को बचाया था.

 ये बात मुगल बादशाह अकबर के समय की है जब कुछ अमीर व्यापारी सामान की तरह लड़कियों को बेचा करते थे, तब दुल्ला भट्टी ने अपनी बहादुरी से लड़ाई लड़कर न केवल लड़कियों को बचाता था बल्कि फिर उनकी शादी भी करवाई थी. दुल्‍ला भट्टी को सम्‍मान देने के लिए हर साल लोहड़ी के मौके पर उनकी बहादुरी की कहानी सुनी और सुनाई जाती है. लोहड़ी पर यह परंपरा सालों से चली आ रही है.

नए साल पर खरीद रहे हैं सपनों का घर, तो वास्तुदोष से बचने के अपनाएं ये वास्तु टिप्स

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें