स्टार्टअप इंडिया से उद्यमी बने मेरठ के आसिफ, 20 लोगों को भी दिया रोजगार

Smart News Team, Last updated: 05/09/2020 02:41 PM IST
  • केंद्र सरकार की स्टार्टअप योजना कई लोगों के लिए वरदान साबित हो रही है. इसके जरिए लोग अपने व्यापार की शुरुआत कर पा रहे हैं. मेरठ के इंजीनियर आसिफ चौहान ने इस योजना के जरिए व्यापार की शुरुआत कर 20 लोगों को रोजगार देने का जरिया बने हैं. आसिफ अभी तक अपने 8 नए प्रोजेक्टों का पेटेंट करा चुके हैं.
अपने उत्पादों के साथ मेरठ के इंजीनियर आसिफ चौहान

मेरठ. सरकार की फ्लैगशिप योजना स्टार्टअप इंडिया का लाभ काफी लोग उठा रहे हैं उनमें से एक है मेरठ के इंजीनियर आसिफ चौहान. आसिफ ने जिला उद्योग केंद्र से जानकारी प्राप्त कर डबल विंडो कूलर बनाने का अपना प्रोजेक्ट वेबसाइट पर अपलोड किया और उसका पेटेंट कराया था. इसके बाद उन्होंने बैंक ऑफ बड़ौदा से 25 लाख रुपए का लोन लेकर अपना खुद का व्यापार शुरू किया. पिछले वर्ष में इनका टर्नओवर 25 लाख रहा। इसके साथ ही इन्होंने 20 बेरोजगारों को रोजगार भी उपलब्ध कराया. वर्तमान में आसिफ ने सात नए प्रोजेक्ट भी लगाए हैं.

जानकारी के अनुसार आसिफ मेरठ के नूर नगर के रहने वाले हैं. इन्होंने बीटेक के साथ-साथ एमटेक भी किया है.आसिफ ने करीब एक साल पहले एक डबल विंडो कूलर का प्रोजेक्ट बनाया. उसके बाद उसे भारत सरकार की स्टार्टअप इंडिया की वेबसाइट पर अपलोड कर उसका अनुमोदन प्राप्त किया.

उत्तर प्रदेश महिला आयोग के व्हाट्सएप नंबर पर भी कर सकते हैं उत्पीड़न की शिकायत

उन्होंने 2019 में नूर नगर में डबल विंडो कूलर का उपक्रम लगाया. आसिफ के अनुसार वित्तीय वर्ष 2019- 20 में उनका टर्नओवर 25 लाख रुपए रहा. उन्होंने अपने उपक्रम के जरिए 20 बेरोजगारों को भी रोजगार दिया. अपने पहले प्रोजेक्ट की सफलता के बाद आसिफ में सात नए प्रोजेक्टों का भी पेटेंट करा कर उस पर कार्य प्रारंभ कर दिया है. इससे पहले आसिफ ने विद्या नॉलेज पार्क में अध्यापन का कार्य भी किया है.

मेरठ: फर्जी ट्रस्ट बनाकर राम मंदिर निर्माण के नाम पर हो रही थी ठगी, एक अरेस्ट

आसिफ का कहना है कि स्टार्टअप इंडिया योजना एक बहुत अच्छी योजना है. यदि किसी युवा के पास नई सोच है कुछ करने का जज्बा है तो वह इस योजना के साथ आगे बढ़ सकता है.इस योजना के जरिए युवा अपने जीवन को सुनहरा और खुशहाल बना सकते हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनकी दूरगामी सोच के कारण ही यह योजना शुरू हुई जिसका लाभ युवाओं को मिल रहा है.

मेरठ: 5 वकीलों में कोरोना की पुष्टि, शनिवार को बंद रहेगी कचहरी, होगी सैनेटाइज

इसके अलावा उपायुक्त उद्योग विके कौशल और सहायक आयुक्त शैलेंद्र सिंह का कहना है कि इंजीनियर आशीष चौहान ने डबल विंडो कूलर के साथ साथ नए प्रोजेक्ट भी स्टार्ट अप इंडिया की योजना के तहत पेटेंट कराएं हैं. इन प्रोजेक्टों में ओबीए डबल इंजन मोटरसाइकिल, ओबीए वॉल माउंटेड कूलर, ओबीए बेबी कूलर, रिस्ट कर्ल जिम मशीनज़ मल्टी स्टेज जिम मशीन ,जनरेटर इलेक्ट्रिक करंट शामिल हैं. उपायुक्त ने बताया कि आसिफ ने अपने इन नए प्रोजेक्टों पर काम भी शुरू कर दिया है. आसिफ को मंत्रालय द्वारा पुरस्कृत भी किया जा चुका है.

नई शिक्षा नीति 2020 ने खोले समग्र बहुविषयक शिक्षा के रास्ते: डॉ अमृता दास

जिला उद्योग केंद्र के सहायक प्रबंधक दिनेश आर्य ने बताया कि स्टार्टअप इंडिया केंद्र सरकार की एक महत्वाकांक्षी और महत्वपूर्ण योजना है. इस योजना के अंतर्गत आवेदक को 10 लाख से लेकर एक करोड़ रुपए तक का लोन दिया जा सकता है. आवेदक को सबसे पहले अपने प्रोजेक्ट के नए विचार को स्टार्ट अप इंडिया की वेबसाइट पर अपलोड करना होगा. इसके बाद उसका अनुमोदन प्राप्त करना होगा. इसके बाद आवेदक को उसका पेटेंट प्राप्त करना होता है. आवेदक का प्रोजेक्ट जिस तरह का होगा उसके अनुसार ही उसे लोन देने की प्रक्रिया शुरू होती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें