मेरठ: ग्राम समाज की भूमि पर जन्माष्टमी मनाने को लेकर विवाद

Smart News Team, Last updated: 12/08/2020 03:02 PM IST
  • मेरठ जिले के मुंडाली थाना क्षेत्र के ग्राम सिसौली में बढ़ला-कैथवाड़ी के रास्ते पर ग्राम समाज की सरकारी भूमि का मामला 
  • सरकारी भूमि पर श्री कृष्ण की प्रतिमा रख जन्माष्टमी मनाने को लेकर शुरू हुआ विवाद
  •  मौके पर पहुंची अधिकारियों व पुलिस की टीम ने सरकारी भूमि से प्रतिमा हटवाया
जन्माष्टमी

मेरठ जिले के मुंडाली थाना क्षेत्र ग्राम सिसौली में बढ़ला-कैथवाड़ी के रास्ते पर ग्राम समाज की सरकारी भूमि पर कृष्ण की प्रतिमा रखकर जन्माष्टमी मनाए जाने को लेकर विवाद शुरू हो गया जिसके बाद कुछ ग्रामीण धरने पर बैठ गए.

उन्होंने प्रतिमा को हटाने की मांग की.मौके पर पहुंचे अधिकारियों और पुलिस की टीम ने प्रतिमा हटाकर ग्रामीणों को शांत कराया.

बता दें कि मंगलवार को जन्माष्टमी के अवसर पर खत्तों की भूमि की सफाई कर श्रीराधा-कृष्ण की मूर्ति स्थापित कर पूजा अर्चना की जा रही थी. इसका पता लगते ही गांव के दूसरे पक्ष ने विरोध कर अधिकारियों को सूचित कर दिया.

मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने भूमि को मुक्त करने को कहा तो लोगों ने हंगामा कर दिया. अधिकारियों के सामने लोग धरने पर बैठ गए. अधिकारियों ने लोगों को समझाते हुए मूर्तियां हटवाते हुए सरकारी भूमि पर कब्जा नहीं करने की चेतावनी दी.

सिसौली में बढ़ला-कैथवाड़ी मार्ग पर ग्राम समाज की भूमि है जो सरकारी रिकार्ड में खत्ते में दर्ज है.

मंगलवार को हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने साफ-सफाई कर एक चबूतरा तैराते हुए कहा कि गांव के पास गंदगी नहीं होनी चाहिए. आज जन्माष्टमी है इसलिए यहां श्रीराधा कृष्ण की मूर्ति स्थापित कर दी.

इसकी जानकारी लगते ही गांव के दूसरे पक्ष ने विरोध करते हुए मुंडाली पुलिस समेत आलाधिकारियों को सूचित कर दिया. मौके पर क्षेत्राधिकारी किठौर देवेश सिंह थाना पुलिस के साथ पहुंचे और लोगों को समझाने का प्रयास किया, इसे लेकर नोकझोंक हो गई.

सीओ किठौर ने कहा कि सरकारी भूमि पर कब्जा नहीं किया जा सकता है. मौके पर पहुंचे एसडीएम सदर अंकित खंडलेवाल ने भी लोगों से सरकारी भूमि से मूर्तियां हटाए जाने को कहा.

कई घंटे तक चली गहमागहमी के बाद पुलिस बल की मौजूदगी में मूर्तियां हटाई गई. गांव में तनाव को देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

मंदिर में स्थापित हुए श्रीराधा कृष्ण

एसडीएम, पुलिस के बीच हुई सहमति के बाद मूर्तियों को विधि विधान के साथ गांव के मंदिर में स्थापित किया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें