मेरठ: बिजली चोरी के बढ़ते मामलों के बाद अब डाटा केबिल से कनेक्ट होगा मीटर

Smart News Team, Last updated: 08/09/2020 07:44 PM IST
  • मेरठ में मीटर से बिजली चोरी करने के खुलासे के बाद अब शहर में बिजली मीटर की रीडिंग डाटा केबिल से कनेक्ट करके ली जाएगी. इसके साथ बिजली विभाग मीटर खराबी की शिकायत वाले 300 मीटरों की जांच करेगा.
बिजली मीटर

मेरठ: शहर में मीटर में गड़बड़ी कर बिजली चोरी के मामले सामने आने के बाद अब मीटर रीडिंग के तरीके को बदला जाएगा. शहर के नौचंदी इलाके में बिजली मीटरों को डिवाइस के जरिए नो डिस्पले और रीडिंग शून्य कर देने के मामले के खुलासे के बाद पावर कॉरपोरेशन अधिकारियों ने मीटरों में गड़बड़ी कराने वालों पर कार्रवाई की तैयारी कर ली है. यही नही गड़बड़ी वाले मामलों में सीधी रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी.

जानकारी के मुताबिक पावर कॉरपोरेशन ने पिछले तीन महीनों में जितने भी मीटर खराबी की शिकायत पर बदले गए सभी में जांच बैठा दी है. जिसके तहत करीब 300 मीटरों की जांच होगी. अब मीटर रीडिंग डाटा केबिल कनेक्ट कर कराई जाएगी. बिजली विभाग के अनुसार इसकी शुरूआत सर्वाधिक लाइन लॉस और बिजली चोरी वाले फीडरों से की जाएगी.

मेरठ में मर्डर: ज्वैलर की हत्या, 10 लाख कैश और 5 किलो चांदी की लूट

मीटरों में गड़बड़ी कराकर पावर कॉरपोरेशन को चूना लगा कर बिजली चोरी करने वाले उपभोक्ताओं और मीटर रीडरों दोनों पर कार्रवाई होगी. अधिकारियों का कहना है कि अब ऐसे मामलों में रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी. अधिकारियों ने तय किया है कि मीटर रीडिंग डाटा केबिल कनेक्ट कर कराई जाएगी. बिजली अधिकारियों का कहना है कि इससे उपभोक्ता गड़बड़ी नहीं कर सकेंगे और पूरी रीडिंग आ सकेगी.आपको बता दें कि उपभोक्ता और मीटर रीडरों के गठजोड़ से जो नुकसान पावर कारपोरेशन को हो रहा है इसके लिए मीटर रीडरों के साथ मीटर रीडिंग कंपनी पर कार्रवाई की तैयारी है. इसके साथ ही पावर कारपोरेशन  करोड़ों के नुकसान को वसूल करने की तैयारी कर रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें